B.Com 3rd Year Issue And Redemption Of Debentures – Corporate Accounting MCQ

B.Com 3rd Year Issue And Redemption Of Debentures Corporate Accounting MCQ :- all the Question Corporate Accounting Study Material Question Answer Examination Paper Sample Model Practice Notes PDF MCQ (Multiple Choice Questions) available in our site. parultech.com. Topic Wise Chapter wise Notes available. If you agree with us, if You like the notes given by us, then please share it to all your Friends. If you are Confused after Visiting our Site Then Contact us So that We Can Understand You better.


बहुविकल्पीय प्रश्न

(Multiple Choice Questions) 

  1. ऋणपत्र जो सुपुर्दगी मात्र से हस्तान्तरित हो जाते हैं, कहलाते हैं(अ) पंजीकृत ऋणपत्र

(ब) प्रथम ऋणपत्र  (स) द्वितीय ऋणपत्र (द) वाहक ऋणपत्र 

  1. कम्पनी ने 1000 रू. का ऋणपत्र 980 रू. में खरीदा तो 20 रू. के अन्तर को माना जायेगा-

(अ) ऋणपत्र शोधन पर लाभ (ब) ऋणपत्र शोधन पर हानि  (स) ख्याति (द) इनमें से कोई नहीं 

  1. ऋणपत्र, भाग होता है-

(अ) अंश पूँजी का (ब) ऋण का  (स) स्वामित्व पूँजी का (द) उपर्युक्त सभी का 

  1. ऋण-पत्र पर ब्याज होता है-

(अ) 6% (ब) 12%  (स) 20%  (द) निश्चित दर 

  1. ऋणपत्र का प्रतिफल है

(अ) लाभ  (ब) लाभांश  (स) पूँजीगत प्राप्ति  (द) ब्याज 

  1. एक कम्पनी ने 100 रू. प्रत्येक वाले 1,00,000, 12% ऋणपत्रों को निर्गमित किया। ऋणपत्रों पर ब्याज की राशि है-

(अ) 12,000 रू. (ब) 1,20,000 रू. (स) 12,00,000 रू. (द) इनमें से कोई नहीं 

  1. सेबी के मार्गदर्शन के अनुसार शोधन के पूर्व ऋण पत्रों की राशि के कितने प्रतिशत से ऋण पत्र शोधन कोष का सृजन करना होगा?

(अ) 40%  (ब) 25%  (स) 60% _  (द) 100% 

  1. ऋणपत्रों पर बट्टा है-

(अ) लाभों का नियोजन (ब) लाभों पर प्रभाव  (स) संचय (द) आयोजन 

  1. ऋणपत्रों के निर्गमन पर बट्टा खाता है-

(अ) पूँजीगत हानि (ब) सामान्य हानि  (स) व्यापारिक हानि (द) आयगत हानि 

  1. ऋणपत्रधारी है-

(अ) कम्पनी का ऋणी (ब) कम्पनी का स्वामी  (स) कम्पनी का प्रतिभू (द) कम्पनी का ऋणदाता 

  1. ऋणपत्रों पर ब्याज को किस खाते में हस्तान्तरित किया जाता है-

(अ) अंश प्रीमियम खाते में . (ब) लाभ-हानि विवरण में  (स) सामान्य संचय खाते में (द) चिट्ठे में 

  1. कम्पनी के लिए अधिमूल्य पर ऋणपत्र का निर्गमन है-

(अ) पूँजीगत प्राप्ति (ब) लाभ (स) सम्पत्ति  (द) व्यापारिक लाभ

  1. ऋणपत्र है-

(अ) ऋण का प्रमाण-पत्र (ब) नकद का प्रमाण-पत्र  (स) साख का प्रमाण-पत्र (द) पूँजी का प्रमाण-पत्र 

  1. सामान्यत: ऋणपत्र होते हैं-

(अ) सुरक्षित (ब) अंशत: सुरक्षित  (स) असुरक्षित (द) इनमें से कोई नहीं 

  1. ‘अपना ऋणपत्र’ (Own Debenture) कम्पनी के वे ऋणपत्र हैं जिन्हें-

(अ) कम्पनी अपने प्रवर्तकों को आबंटित करती है  (ब) कम्पनी अपने संचालकों को आबंटित करती है  (स) कम्पनी बाजार से खरीदती है और निवेश के रूप में रखती है (द) इनमें से कोई नहीं 

  1. जब अपने ऋणपत्रों को निरस्त किया जाता है तो निरस्तीकरण पर हुए किसी भी लाभ को…… में

हस्तान्तरित कर दिया जाता है- (अ) लाभ-हानि विवरण (ब) सामान्य संचय  (स) ऋणपत्र शोधन संचय (द) पूँजी संचय 

  1. ऐसे ऋणपत्र जो केवल सुपुर्दगी के द्वारा हस्तान्तरित नहीं किए जा सकते ……. ऋणपत्र कहलाते

……. (अ) वाहक (ब) पंजीकृत  (स) परिवर्तनीय (द) अपरिवर्तनीय 

  1. ऐसे ऋणपत्र जिन्हें कम्पनी की पुस्तकों में रिकॉर्ड नहीं किया जाता, कहलाता है-

(अ) सुरक्षित ऋणपत्र (ब) वाहक ऋणपत्र  (स) बन्धक ऋणपत्र (द) अशोधनीय ऋणपत्र 

  1. एक कम्पनी अपने ऋणपत्र को 

(अ) पुन: क्रय कर सकती है (ब) पुन: क्रय नहीं कर सकती है  (स) आंशिक रूप से क्रय कर सकती है.  (द) उपरोक्त में से कोई नहीं 

  1. ऋणपत्रों पर ब्याज की गणना की जाती है उनके-

(अ) निर्गमन मूल्य पर (ब) शोधनीय मूल्य पर (स) अंकित मूल्य पर (द) बाजार मूल्य पर 

  1. ऋणपत्रों का निर्गमन किया जा सकता है……… 

(अ) नगद प्रतिफल के बदले (ब) नगद के अलावा अन्य प्रतिफल के बदले  (स) नगद, नगद के अलावा या सम्पाश्विक प्रतिभूतियों के रूप में  (द) उपर्युक्त में से कोई नहीं 

  1. कम्पनी अधिनियम 2013 की धारा …… ऋणपत्र निर्गमन करने का अधिकार देती है-

(अ) 179  (ब) 180  (स) 181 (द) 117 

  1. सिंकिंग फण्ड बनाया जा सकता है-

(अ) आयगत लाभ में से (ब) पूँजीगत लाभ में से  (स) प्रीमियम से (द) पूँजी शोधन संचय से 

  1. स्वयं के ऋणपत्रों को रद्द करने का लाभ है-

(अ) आयगत लाभ (ब) पूँजीगत लाभ  (स) संचालन लाभ (द) व्यापारिक लाभ 

  1. ऋणपत्र दर्शाते हैं

(अ) कम्पनी की अल्पकालीन उधारी  (ब) कम्पनी में संचालकों के अंश (स) समता अंशधारियों के विनियोग  (द) कम्पनी की दीर्घकालीन उधारी 

  1. जिन ऋणपत्रों के मूलधन का भुगतान कम्पनी के जीवनकाल में नहीं होता बल्कि कम्पनी के

समापन पर होता है, ऐसे ऋणपत्रों को कहते हैं- (अ) वाहक ऋणपत्र (ब) शोध्य ऋणपत्र  (स) अशोध्य ऋणपत्र (द) अपरिवर्तनशील ऋणपत्र

  1. अपरिवर्तनीय ऋणपत्र होते हैं-

(अ) स्वामियों की पूँजी (ब) ऋण पूँजी  (स) अल्पकालीन ऋण (द) उपरोक्त में से कोई नहीं 

  1. रामा लि ने 31 दिसम्बर, 2021 को खुले बाजार से स्वयं अपने 98 रू. ब्याज सहित की दर से 100 रू. वाले 100, 12% ऋणपत्र क्रय करती है। ब्याज प्रत्येक वर्ष 31 मार्च को देय है। रद्द करने पर लाभ की राशि होगी-

(अ) 900 रू.  (ब) 1,100 रू.  (स) 200 रू.  (द) शून्य 

  1. 202.00,000 रू. की सम्पत्ति क्रय के बदले 1,80,000 रू. के ऋणपत्र निर्गमित किए गए, 20,000 रू. को

माना जायेगा- (अ) ख्याति (ब) प्रतिभूति अधिमूल्य/प्रीमियम  (स) लाभ (द) पूँजी संचय 

  1. ऋणपत्र प्रीमियम का प्रयोग किया जा सकता है

(अ) ऋणपत्रों के निर्गमन के व्ययों या कमीशन के भुगतान में  (ब) लाभांश बाँटने में (स) पूँजीगत हानियों के अपलेखन में  (द) उपरोक्त में से कोई नहीं ___

  1. सिंकिंग फण्ड हमेशा दिखाता है-

(अ) नाम शेष (ब) जमा शेष (स) उपरोक्त (अ) व (ब) दोनों  (द) उपरोक्त में से कोई नहीं 

  1. सिंकिंग फण्ड निवेश पर ब्याज को क्रेडिट किया जाता है-

(अ) लाभ-हानि विवरण में (ब) सिंकिंग फण्ड खाते में  (स) सामान्य संचय खाते में (द) सिंकिंग फण्ड निवेश खाते में 

  1. ऋणपत्र होते हैं-

(अ) कम्पनी की पूँजी के बदले निर्गमित प्रलेख  (ब) कम्पनी द्वारा लिए गए ऋण हेतु जमानत  (स) कम्पनी द्वारा लिए गए ऋण का स्वीकृति पत्र (द) उपरोक्त सभी 

  1. ऋण-पत्रों को धारण करने वाले (ऋणपत्र धारी), कम्पनी के…… होते हैं। 

(अ) लेनदार (ब) देनदार/कम्पनी के ग्राहक  (स) स्वामी (द) बैंकर 

  1. एक कम्पनी के आर्थिक चिट्ठे में, ऋण पत्रों को किस शीर्षक के अन्तर्गत दिखाया जाता है-

(अ) गैर-चालू दायित्व (ब) आरक्षित ऋण  (स) संचय एवं आधिक्य (द) चालू दायित्व 

  1. ऋण-पत्रधारी प्राप्त करते हैं

(अ) लाभांश (ब) पार्षद अन्तर्नियम के अनुसार मिला अधिकार  (स) कम्पनी का स्वामित्व (द) स्थिर दर से ब्याज 

  1. जब ऋण-पत्रों का निर्गमन सहायक प्रतिभूति के रूप में किया जाता है तब कौन-से जर्नल लेखे

करने होते हैं?  (अ) ऋण-पत्र उचन्त खाता डेबिट एवं ऋण-पत्र खाता क्रेडिट  (ब) कोई लेखा नहीं होगा (स) उपरोक्त (अ) अथवा (ब)  (द) इनमें से कोई नहीं 

  1. जब ऋण-पत्रों को सहायक प्रतिभूति के रूप में निर्गमित किया जाता है तो ऋणपत्रों पर ब्याज

दिया जाता है- (अ) ऋण-पत्र के नाममात्र मूल्य पर  (ब) ऋण-पत्र के सम मूल्य पर  (स) छूट के बाद के ऋण-पत्र के मूल्य पर  (द) कोई ब्याज नहीं दिया जाएगा 

  1. ऋणपत्रों के निर्गमन पर हानि को सामान्यतया अपलिखित किया जाता है-

(अ) 5 वर्षों में (ब) 15 वर्षों में  (स) 10 वर्षों में (द) शोधन की अवधि काल में

  1. ऋण-पत्रों के निर्गमन पर होने वाली हानि के अपलिखित न किए गए भाग को दिखाया जाता

(अ) सम्पत्ति पक्ष में बिना अपलिखित व्यय के रूप में  (ब) मूर्त सम्पत्तियों (Tangible Assets) में  (स) चालू दायित्व में (द) चालू सम्पत्ति में FREE 

  1. ऋणपत्रों के निर्गमन पर हानि है-

(अ) आयगत व्यय (ब) पूँजीगत हानि  (स) आस्थगित आगम व्यय (द) इनमें से कोई नहीं 

  1. ऋणपत्रों के निर्गमन पर प्रीमियम …….. की प्रकृति का है। 

(अ) व्यक्तिगत खाते (ब) वास्तविक खाते  (स) नाममात्र के खाते (द) इनमें से कोई नहीं 

  1. रू. 4,25,000के ऋणपत्र, रू. 4,50,000 की सम्पत्तियों के क्रय के लिए निर्गमित किये गये। इस

मामले में रू. 25,000 है- (अ) पूँजीगत संचय (ब) प्रतिभूति अधिमूल्य/प्रीमियम  (स) आगम-संचय (द) ख्याति 

  1. ऋणपत्रों के शोधन पर प्रीमियम की प्रकृति है-

(अ) व्यक्तिगत खाते की (ब) वास्तविक खाते की  (स) नाममात्र के खाते की (द) इनमें से कोई नहीं 

  1. ऋणपत्रों के निर्गमन पर हानि …… की प्रकृति की है। 

(अ) व्यक्तिगत खाते (ब) वास्तविक खाते  (स) नाममात्र के खाते (द) इनमें से कोई नहीं 

  1. ऋणपत्र निर्गमन हानि खाता है-

(अ) एक दायित्व (ब) एक सम्पत्ति  (स) एक व्यय (द) एक लाभ 

  1. ऋणपत्रों के शोधन पर प्रीमियम खाता है-

(अ) सम्पत्ति  (ब) दायित्व  (स) व्यय (द) आगम 

  1. SEBI के अनुसार ऋणपत्रों पर ब्याज की दर हो सकती है-

(अ) 10% वार्षिक (ब) 24% वार्षिक  (स) कोई सीमा नहीं (द) शून्य 

  1. ऋणपत्रों के निर्गमन पर प्राप्त प्रीमियम की राशि को क्रेडिट किया जाता है-

(अ) पूँजी संचय खाते में (ब) सामान्य संचय खाते में  (स) लाभ-हानि विवरण में (द) प्रतिभूति प्रीमियम खाते में 

  1. एक्स वाई जेड कम्पनी की पुस्तकों में निम्नलिखित लेखा प्रविष्टि दिखाई गई है

Bank A/C                                                                     Dr. रू. 4,75,000  Loss on Issue of Debenture A/c                                  Dr. 3 75,000  To 10% Debenture A/c                                                             रू. 5,00,000  To Premium on Redemption of Debenture A/c                         रू. 50,000  ऋणपत्र निर्गमन पर छूट की दर क्या है?  (अ) 5%  (ब) 10%  (स) 15% (द) 20% 

  1. ऋणपत्रों के निर्गमन पर बट्टा खाते” को चिट्ठे में किस प्रकार दिखाया जाता है-

(अ) दायित्व पक्ष में  (ब) सम्पत्ति पक्ष में चालू सम्पत्ति शीर्षक में  (स) सम्पत्ति पक्ष में बिना अपलिखित व्यय के रूप में (द) दायित्व पक्ष में संचय एवं आधिक्य में 

  1. ऋणपत्रों के निर्गमन पर छूट/हानि को अपलिखित किया जा सकता है

(अ) पूँजीगत लाभों में से (ब) आयगत लाभों में से  (स) प्रतिभूति प्रीमियम खाते से (द) उपरोक्त सभी से 

  1. जब ऋणपत्र एक सहायक प्रतिभूति के रूप में निर्गमित किये जाते हैं तो पुस्तकों मे लेनदेन के 

अभिलेखन के लिये अन्तिम प्रविष्टि है (अ) ऋणपत्र खाता क्रेडिट एवं रोकड़ खाता डेबिट  (ब) ऋणपत्र उचन्त खाता डेबिट एवं रोकड़ खाता क्रेडिट  (स) ऋणपत्र उचन्त खाता डेबिट एवं ऋणपत्र खाता क्रेडिट (द) रोकड़ खाता डेबिट एवं ऋण खाता (जिसके लिये प्रतिभूति दी गई है) क्रेडिट 

  1. ऋणपत्रों पर देय ब्याज है

(अ) कम्पनी के लाभों का एक नियोजन  (ब) कम्पनी के लाभ के विरुद्ध एक प्रभार  (स) सिंकिंग फण्ड विनियोग खाता को हस्तान्तरित कर देना (द) सामान्य संचय को हस्तान्तरित कर देना 

  1. निम्नलिखित कथनों में से कौन-सा कथन सही है

(अ) एक ऋणपत्रधारी कम्पनी का स्वामी है  (ब) एक ऋणपत्रधारी केवल कम्पनी के समापन पर ही अपना धन वापस ले सकता है  (स) कटौती पर निर्गमित ऋणपत्र का प्रीमियम पर शोधन किया जा सकता है (द) एक ऋणपत्रधारी केवल लाभ की दशा में ही ब्याज प्राप्त करता है 

  1. निम्नलिखित में से कौनसी वाहक (Bearer) ऋणपत्रों की विशेषता नहीं है?

(अ) ये ऋण की भाँति माने जाते हैं।  (ब) इनके हस्तान्तरण के लिये एक हस्तान्तरण दस्तावेज की आवश्यकता होती है  (स) ये केवल सुपुर्दगी द्वारा ही हस्तान्तरणीय होते हैं। (द) इन पर ब्याज वाहक या धारक को भुगतान की जाती है। 

  1. ऋणपत्रों के निर्गमन पर कटौती है

(अ) निर्गमन के वर्ष में चार्ज किये जाने वाली एक आयगत हानि  (ब) पूँजी संचय से अपलिखित किये जाने वाली एक पूँजीगत हानि  (स) ऋणपत्रों की अवधि में अपलिखित किये जाने वाली एक पूँजीगत हानि (द) ख्याति की तरह दिखलाये जाने वाली एक पूँजीगत हानि 

  1. ऋणपत्र प्रीमियम को ……. प्रयोग नहीं किया जा सकता है

(अ) अंशों या ऋणपत्रों के निर्गम पर कटौती के अपलेखन के लिये  (ब) अंशों या ऋणपत्रों के शोधन पर प्रीमियम के अपलेखन के लिये  (स) लाभांशों के भुगतान के लिये (द) पूँजीगत हानि के अपलेखन के लिये 

  1. ऋणपत्र स्कन्ध है-

(अ) एक प्रकार के ऋणपत्र (ब) पूर्णदत्त ऋणपत्रों का परिवर्तित रूप  (स) अंशतः हस्तान्तरणीय पत्र (द) एक प्रकार की पूँजी 

  1. ऋणपत्रों के निर्गमन पर प्राप्त प्रीमियम का प्रयोग किया जाना चाहिए

(अ) आयगत हानियों को अपलिखित करने में  (ब) लाभांश बाँटने में (स) पूँजीगत हानियों के अपलेखन में  (द) कोई नहीं 

  1. वाहक ऋणपत्र वे हैं

(अ) जिनका नाम कम्पनी की पुस्तकों में दर्ज है  (ब) जिनका हस्तान्तरण कम्पनी की अनुमति से हो  (स) जिनका हस्तान्तरण मात्र सुपुर्दगी से हो (द) हस्तान्तरण सुपुर्दगी एवं अनुमति दोनों से हो 

  1. प्रथम ऋणपत्र हैं

(अ) कम्पनी के जीवनकाल में जिनका भुगतान किया जाए  (ब) भुगतान अन्य ऋणपत्रों से पहले किया जाए  (स) सम्पत्ति बन्धक रखी गयी हो  (द) जो कम्पनी के स्वामी हों

  1. यदि ऋणपत्रों का निर्गमन और शोधन सम-मूल्य पर किया जाये तो जर्नल प्रविष्टि होगी-

(अ) Bank A/c Dr. (ब) Debentures A/c. Dr.  To Debentures A/C To Bank A/C  (स) Share Capital A/c Dr.  (द) None of Above To Bank A/c 

  1. ऋणपत्रों के निर्गमन पर बट्टे की हानि को अपलिखित करने पर डेबिट किया जायेगा-

(अ) पूँजी खाता (ब) सामान्य संचय खाता  (स) लाभ-हानि विवरण (द) इनमें से कोई नहीं 

  1. निम्नलिखित में से किस प्रतिभूति पर पूर्व-निर्धारित ब्याज दर नहीं होती है-

(अ) ऋणपत्रों पर (ब) बॉण्डों पर  (स) अंशों पर (द) बैंक ऋण 

  1. ऋणपत्र जिनके पास कम्पनी की सम्पत्तियाँ जमानत के रूप में रहती हैं, कहलाते हैं-

(अ) असुरक्षित ऋणपत्र (ब) सुरक्षित ऋणपत्र  (स) प्रथम ऋणपत्र (द) द्वितीय ऋणपत्र 

  1. जब ऋणपत्रों का निर्गमन सममूल्य पर किया जाये जिनका शोधन प्रीमियम पर होना है, तो

प्रीमियम पर होने वाली हानि को दर्शाया जायेगा- (अ) ऋणपत्रों के खाते में (ब) ऋणपत्र आवेदन खाते में  (स) ऋणपत्र आबंटन खाते में (द) ऋणपत्र निर्गमन हानि खाते में 

  1. एक कम्पनी द्वारा ऐसे ऋणपत्रों का निर्गमन जिनका शोधन 18 माह पश्चात् किया जाना है, उनके

लिए जिस खाते का निर्माण करना है, वह है- (अ) ऋणपत्र शोधन कोष (D.S.F. or D.R.F.)  (ब) पूँजीगत संचय (Capital Reserve)  (स) ऋणपत्र शोधन संचय (DRR) (द) सामान्य संचय (General Reserve) 

  1. ऋणपत्रों को सम्पाश्विक प्रतिभूति के रूप में निर्गमन की दशा में खोला जाने वाला खाता है-

(अ) Debenture A/C (ब) Debenture Suspense A/c  (स) Debenture Adjustment Ac  (द) Debenture Capital Ac 

  1. 1,000, 10% ऋणपत्र, प्रत्येक 100 रू. का 5% छूट पर निर्गत एवं 2.5% प्रब्याजि पर शोध्य है।

ऋणपत्रों के निर्गमन पर हानि खाता डेबिट किया जायेगा- (अ) 5,000 रू. से (ब) 2,500 रू. से  (स)7,500 रू. से (द) इनमें से कोई नहीं 

  1. यदि 1,00,000 रू. मूल्य के ऋणपत्रों को 10% बट्टे पर 80,000 रू. मूल्य की शुद्ध सम्पत्तिया है।

निर्गमन किया जाये तो अवशेष 10,000 रू. से डेबिट किया जायेगा- (अ) Goodwill A/C (ब) Capital Reserve A/C  (स) Statement of P. & L. (द) General Reserve 

  1. 9,50,000 रू. की सम्पत्तियों के क्रय के लिये एक्स लि. ने 9,00,000 रू. के ऋणपत्र निीमती

इस मामले में 50,000 रू. को माना जायेगा- (अ) हानि (ब) पूँजीगत संचिति  (स) लाभ (द) ख्याति 

  1. आर० के० लि० ने ए० बी० लि० से रू. 2,00,000 की एक मशीन क्रय की जिसका भुगतान

वाले 12% ऋणपत्रों के 20% कटौती पर निर्गमन द्वारा किया जाना था। ऋणपत्र खाता राशि से क्रेडिट किया जाएगा (अ) रू. 2,60,000  (ब) रू. 2,50,000  (स) रू. 2,40,000  (द) , रू. 1,60,000

  1. ऋणपत्रों का शोधन किया जा सकता है-

(अ) अंशों में परिवर्तन द्वारा (ब) नये ऋणपत्रों में परिवर्तन द्वारा  (स) खुले बाजार में क्रय द्वारा (द) उपरोक्त सभी के द्वारा

  1. एक कम्पनी स्वयं के ऋण पत्र खुले बाजार से क्रय करती है-

(अ) पुन: निर्गमन हेतु  (ब) रद्द करने हेतु (स) विनियोग हेत (द) (ब) एवं (स) हेतु 

  1. कम्पनी द्वारा स्वयं के ऋण पत्र खुले बाजार में क्रय करने पर डेबिट किया जायेगा

(अ) विनियोग खाते को (ब) ऋण पत्र खाते को  (स) स्वयं के ऋणपत्र खाते को (द) उपरोक्त से कोई नहीं 

  1. स्वयं के ऋणपत्रों को रद्द करने पर अर्जित लाभ को अन्तरित करते हैं

(अ) पूँजी संचय खाते में (ब) लाभ-हानि विवरण में  (स) लाभ-हानि नियोजन खाते में  (द) लाभ-हानि समायोजन खाते में 

  1. ऋणपत्र शोधन कोष के निर्माण हेतु एक निश्चित राशि चार्ज की जाती है-

(अ) सामान्य संचय खाते से (ब) लाभ-हानि विवरण से  (स) लाभ-हानि समायोजन खाते से.  (द) अंश हरण खाते से 10 

  1. ऋणपत्रों के शोधन के पश्चात् सिंकिंग फण्ड खाते/ऋणपत्र शोधन संचय खाते का शेष

हस्तान्तरित कर दिया जाता है- (अ) सामान्य संचय खाते को (ब) लाभ-हानि खाते को  (स) पूँजीगत संचय खाते को (द) ऋणपत्र खाते को । 

  1. ऋणपत्रों के शोधन के सम्बन्ध में सेबी के दिशानिर्देश…….. हित के लिये हैं। 

(अ) ऋणपत्रधारियों के (ब) लेनदारों के  (स) अंशधारियों के (द) बैंकर्स के 

  1. ऋणपत्रों के शोधन के लिये कोष जुटाये जा सकते हैं-

(अ) लाभों के उपयोग द्वारा (ब) अतिरिक्त पूँजी प्राप्त करके  (स) सम्पत्तियों की बिक्री करके  (द) उपर्युक्त सभी के द्वारा 

  1. ऋणपत्र शोधन संचय का सृजन आवश्यक बनाया है-

(अ) सेबी द्वारा (ब) कम्पनी अधिनियम द्वारा  (स) केन्द्रीय सरकार द्वारा (द) (अ) और (ब) दोनों के द्वारा 

  1. यदि 1,00,000 रू. के ऋणपत्रों को खुले बाजार से 97,000 रू. में खरीदा गया तो 3,000 रू. के अन्तर को क्या कहा जाएगा? 

(अ) ऋणपत्रों के क्रय पर लाभ  (ब) ऋणपत्रों के शोधन पर लाभ  (स) ख्याति (द) पूँजीगत संचय 

  1. ऋणपत्र शोधन संचिति खाता (DRR AIC) बनाने की आवश्यकता नहीं है, यदि  

(अ) ऋणपत्रों की परिपक्वता अवधि 18 माह या इससे कम है।  (ब) ऋणपत्र परिवर्तनीय हैं।  (स) ऋणपत्र सिंकिंग फण्ड बनाया गया है।  (द) उपरोक्त में से कोई भी शर्त पूरी हो जाती है। 

  1. सचयी सिंकिंग फण्ड रीति के अन्तर्गत विनियोगों को विक्रय करने पर अर्जित लाभ को क्रेडिट करेंगे-

(अ) ऋणपत्र शोधन कोष खाते में (ब) लाभ-हानि विवरण में  (स) सिकिंग फण्ड विनियोग खाते में  (द) सामान्य संचय खाते में

  1. एक कम्पनी ने 2,00,000 के ऋणपत्र 12% बट्टे पर निर्गमित किये जिनका शोधन 5 वर्षों के अन्त कया जाना है। प्रतिवर्ष अपलिखित की जाने वाली बट्टे की राशि होगी-

(अ)  रू. 14,000  (ब) रू. 4.200.  (स) रू. 4,800  (द) रू. 8,000 

  1. ऋणपत्र शोधन कोष का निर्माण करके विनियोग क्रय करने पर क्रेडिट करेंगे

(अ) बैंक खाते को (ब) ऋणपत्र शोधन कोष विनियोग खाते को (स) लाभ-हानि समायोजन खाते को (द) ऋणपत्र खात को

  1. विनियोगहेत क्रय किये गये ऋणपत्रों की स्थिति में Own debentures Account को डेबिट करते है।

(अ) अंकित मूल्य (Nominal value) से  (ब) पुस्तक मूल्य (Book value) से (स) क्रय मूल्य (Purchase Price) से  (द) उपरोक्त में से कोई नहीं 

  1. कम्पनी अधिनियम के अनुसार ‘ऋणपत्रों पर उपार्जित किन्तु देय न हुई ब्याज’ दिखलाई जानी चाहिये-

(अ) ऋणपत्रों के अन्तर्गत (ब) चालू दायित्वों की तरह  (स) विविध व्ययों की तरह (द) चालू सम्पत्ति की तरह 

  1. ऋणपत्र शोधन कोष विनियोगों पर मिलने वाले ब्याज को किस खाते में हस्तान्तरित किया जाता है-

(अ) ऋणपत्र शोधन कोष खाते में  (ब) ऋणपत्र शोधन कोष विनियोग खाते में  (स) लाभ-हानि विवरण में (द) लाभ-हानि नियोजन खाते में 

  1. रू. 10 प्रत्येक के 6,000 ऋणपत्रों का रू.10 प्रत्येक के समता अंशों का 20% प्रीमियम पर निरी

द्वारा शोधन किया गया। निर्गमित किये जाने वाले समता अंशों की संख्या होगी- (अ) 50,000  (ब) 60,000  (स) 5,000 (द) 6.000 

  1. डब्लू लि० ने 10 रू. प्रति के 40,000,8% ऋणपत्र सम-मूल्य पर निर्गमित किये जो कि 5 वर्षों के

पश्चात् 20% प्रीमियम पर शोध्य हैं। प्रत्येक वर्ष अपलिखित की जाने वाली ऋणपत्रों के शोधन पर हानि की राशि होगी (अ) 80,000 रू.  (ब) 20,000 रू.  (स) 8,000 रू.  (द) 16,000 रू. 

  1. यदि रू. 10,00,000 के ऋणपत्रों का शोधन परिवर्तन द्वारा किया जाता है तो ऋणपत्र शोधन संचय

में हस्तान्तरण के लिये आवश्यक राशि होगी (अ) 10,00,000 रू.  (ब) 8,00,000 रू.  (स) 12,00,000 रू.  (द) कुछ नहीं 

  1. रू. 4,00,000 के ऋणपत्रों में से विगत वर्ष रू. 2,00,000 के ऋणपत्रों का शोधन किया गया। ऋणपत्र शोधन कोष खाते में रू. 4,00,000 क्रेडिट शेष था। उपरोक्त शोधन से ऋण पत्र शोधन खाते पर प्रभाव पड़ेगा-

(अ) ऋणपत्र शोधन कोष बन्द कर देंगे  (ब) ऋणपत्र शोधन कोष से रू. 2,00,000 सामान्य संचय खाते में अन्तरित करेंगे  (स) ऋणपत्र शोधन कोष खाते पर कोई प्रभाव नहीं पड़ेगा (द) इस शोधन पर हुई हानि की परिगणना करके ऋणपत्र शोधन कोष खाता बन्द कर देंगे 

  1. रू.100 वाले 20,000 ऋणपत्रों का 5% प्रीमियम पर शोधन करने हेत ऋणपत्रधारियों कार 100

वाले अधिमान अंश 20% प्रीमियम पर दिये। नये निर्गमित अधिमान अंशों की संख्या होगा- (अ) 20,000 अधिमान अंश  (ब) 21,000 अधिमान अंश  (स) 16,000 अधिमान अंश (द) 17,500 अधिमान अंश जाता है

  1. विनियोगों के विक्रय के बाद ऋणपत्र शोधन कोष विनियोग खाते के शेष को हस्तान्तरित किया जाता है।-

(अ) पूँजी संचय खाता (ब) सामान्य संचय खाता (स) लाभ-हानि विवरण (द) ऋणपत्र शोधन कोष खाते में

  1. निम्नलिखित कथनों में से कौनसा असत्य है? 

(अ) कम्पनी द्वारा ऋणपत्रों के शोधन का इरादा करने से पर्व निर्गत ऋणपत्रों की राशि बराबर राशि ऋणपत्र शोधन संचिति सृजित करना आवश्यक है।  (ब) यदि 18 माह या उससे कम अवधि में परिपक्व होने वाले ऋणपत्र निर्गत किये जात शोधन संचिति का सृजन आवश्यक नहीं है।  (स) चाहे ऋणपत्र परिवर्तनीय हैं या अपरिवर्तनीय, ऋणपत्र शोधन संचिति का सृजन आवश्यक है। (द) अवसंरचना कम्पनियों (Infrastructure Companies) को ऋणपत्र शाधन आवश्यक नहीं है। 

  1. एक अवसंरचना कम्पनी ने 1 अप्रैल 2008 को 50.00.000 रू. के 1 अप्रैल 2020 ऋणपत्रों का सार्वजनिक निर्गम किया। ऋणपत्रों के शोधन से पूर्व ऋणपत्र आवश्यक राशि है

(अ) 25,00,000 रू. (ब) 12,50,000 रू. (स) शून्य (द) इनमें से कोई नहीं 

  1. सिंकिंग फण्ड विनियोग खाते के अंकित मूल्य और पुस्तक मूल्य क्रमशः 1,00,000 रू. और 6000 रू. है। कम्पनी ने 40,000 रू. के अंकित मूल्य के विनियोग इतने मूल्य पर बेचे हैं जोकि 10000 रू. के ऋणपत्रों का 102 रू. पर शोधन करने के लिये पर्याप्त था। विनियोगों की बिक्री पर लाभ है

(अ) 2,400 रू. (ब) 1,600 रू.  (स) 800 रू. (द) 1,200 रू. 

  1. 1-5-2020 को अने ब से 100 रू. प्रति के 500, 12% ऋणपत्र ब्याज-सहित 96 रू. की दर से क्रय

किय। ब्याज देय तिथि 30 जून और 31 दिसम्बर है। अ.के लिये ऋणपत्रों का लागत मूल्य है (अ) 50,000 रू.  (ब) 48,000 रू.  (स) 46,000 रू.  (द) इनमें से कोई नहीं 

  1. एक लि. ने 100 रू. प्रति के 1,00,000 7% ऋणपत्र 4% कटौती पर निर्गमित किये जो पाँच वर्षों के

पश्चात 6% प्रीमियम पर शोध्य हैं। प्रत्येक वर्ष अपलिखित की जाने वाली हानि की राशि होगी (अ) 80,000 रू.  (ब) 1,20,000 रू.  (स) 2,00,000 रू.  (द) 2,50,000 रू. 

  1. 1,000 ऋणपत्र प्रति रू.100,5% प्रीमियम पर शोधित किए।शोधन हेतु रू. 100 वाले अधिमान अंश 5% प्रीमियम पर दिए। अंशों की संख्या होगी

(अ) 1,050 अंश  (ब) 1,005 अंश  (स) 1,000 अंश  (द) 1,500 अंश 

  1. ऋणपत्रों पर बट्टे को अपलिखित करना चाहिए-

(अ) पाँच वर्ष में (ब) निर्गमन के वर्ष में  (स) ऋणपत्रों की शोधन की अवधि में  (द) शोधन के वर्ष में 

  1. x कम्पनी लिमिटेड ने 28,80,000 रू. की सम्पत्तियाँ क्रय की। इसने 100 रू. प्रति ऋण-पत्र वाले

ऋण-पत्रों को 4% छूट पर क्रय प्रतिफल में निर्गमित किया। विक्रेताओं को निर्गमित ऋणपत्रों की संख्या है- (अ) 30,000 (ब) 28,800  (स) 32,000 (द) उपर्युक्त में कोई नहीं 

  1. 31.3.2020 को ऋणपत्रों का शेष रू. 10 लाख; 31.3.2021 को ऋणपत्रों का शेष रू. 9 लाख,

प्रतिभूति के रूप में निर्गमित ऋणपत्र रू.1 लाख नकद के बदले निर्गमित ऋणपत्र = रू.2 लाख; वर्ष में शोधन किए गए ऋणपत्रों की राशि क्या है?  (अ) रू. 2,00,000  (ब) रू.3,00,000  (स) रू. 4,00,000  (द) रू. 5,00,000

Follow Me

Facebook

B.Com 1st 2nd 3rd Year Notes Books English To Hindi Download Free PDF

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*