E-Commerce B.Com 3rd Year E – Payment System Notes

E-Commerce B.Com 3rd Year E Payment System Notes :- E-Commerce Study Material Question Answer Examination Paper Sample Model Practice Notes PDF MCQ (Multiple Choice Questions) available in our site. parultech.com. Topic Wise Chapter wise Notes available. If you agree with us, if You like the notes given by us, then please share it to all your Friends. If you are Confused after Visiting our Site Then Contact us So that We Can Understand You better.



ई-भुगतान प्रणाली चेक या नकदी के उपयोग के बिना, इलैक्ट्रॉनिक माध्यम से वस्तुओं और सेवाओं के लिए लेनदेन या भुगतान करने का एक तरीका है। इसे इलैक्ट्रॉनिक भुगतान प्रणाली या ऑनलाइन भुगतान प्रणाली भी कहा जाता है। इंटरनेट आधारित बैंकिंग और खरीदारी के बढ़ते प्रसार के कारण पिछले दशकों में इलैक्ट्रॉनिक भुगतान प्रणाली का प्रयोग तेजी से बढ़ा है। जैसा कि दुनिया प्रौद्योगिकी विकास के साथ और अधिक आगे बढ़ रही है, हम इलैक्ट्रॉनिक भुगतान प्रणालियों और भगतान प्रसंस्करण उपकरणों के उदय को देख सकते हैं। ऑनलाइन भुगतान रूपों में सबसे लोकप्रिय क्रेडिट और डेबिट कार्ड द्वारा भुगतान है। इसके अतिरिक्त अन्य वैकल्पिक भुगतान विधियां भी हैं, जैसे कि बैंक हस्तांतरण, इलैक्ट्रॉनिक वॉलेट, स्मार्ट कार्ड या बिटकॉइन वॉलट (बिटकॉइन सबसे लोकप्रिय क्रिप्टोकरेंसी) है। ई-भुगतान विधियों को दो क्षेत्रों में वर्गीकृत किया जा सकता है, क्रेडिट भुगतान प्रणाली और नकद भुगतान प्रणाली।

  1. क्रेडिट भुगतान प्रणाली (Credit Payment System)—इसमें निम्नलिखित सम्मिलित होते हैं
  • क्रेडिट कार्ड (Credit Card)-ई-भुगतान प्रणाली के इस रूप में नकदी के बिना ही ऑनलाइन या इलेक्ट्रॉनिक डिवाइस के माध्यम से भुगतान करने के लिए कार्डधारक को वित्तीय संस्थान द्वारा जारी कार्ड के उपयोग से भुगतान की सुविधा प्राप्त होती है। 
  • ई-वॉलेट (E-wallet)-उपयोगकर्ता के वित्तीय डेटा जैसे डेबिट और क्रेडिट कार्ड की जानकारी को संग्रहीत करने वाला प्रीपेड खाता जो ऑनलाइन भुगतान को सरल बनाता है। 
  • स्मार्ट कार्ड (Smart Card) स्मार्ट कार्ड एक अति लघु टेम्पर प्रूफ उपकरण (Temper Proof Device) होता है जिसमें एक माइक्रोप्रोसेसर/मेमोरी चिप लगी होती है जो उपयोगकर्ता का डाटा स्टोर करने के काम आती है।
  1. नकद भुगतान प्रणाली (Cash Payment System)
  • प्रत्यक्ष डेबिट (Direct Debit) एक वित्तीय लेनदेन जिसमें खाताधारक बैंक को निर्देश देता है कि वह उसके खाते से इलेक्ट्रॉनिकली वस्तुओं या सेवाओं के भुगतान के लिए एक विशिष्ट राशि प्रदान करे।
  • ई-चेक (E-Check)—यह पुराने पेपर चेक का डिजिटल संस्करण है। यह एक बैंक खाते से पेपर चैक का प्रयोग किये बिना पैसे का इलैक्ट्रॉनिक हस्तारण है। 
  • ई-कैश (E-Cash) यह इलैक्ट्रॉनिक भुगतान प्रणाली का एक रूप है, जहां एक निश्चित राशि को ग्राहक के डिवाइस पर संग्रहीत किया जाता है और ऑनलाइन लेनदेन के लिए सला बनाया जाता है।
  • संग्रहित-मूल्य कार्ड (Stored Value Card)–एक निश्चित धनराशि वाला कार्ड जिसका उपयोग जारीकर्ता स्टोर (Issuing store) में लेनदेन करने के लिए किया जा सकता है। संग्रहित-मूल्य कार्ड का एक विशिष्ट उदाहरण उपहारकार्ड हैं।

ई-भुगतान के लोकप्रिय तरीके

(Popular Modes of E-Payment) 

क्रेडिट कार्ड (Credit Card)

क्रेडिट कार्ड का उपयोग करके भुगतान इलेक्ट्रॉनिक भुगतान के सबसे सामान्य तरीकों में से एक है। क्रेडिट कार्ड छोटा प्लास्टिक कार्ड होता है जिसमें किसी खाते के साथ एक यूनिक संख्या होती है। इसमें एक चुंबकीय पट्टी भी लगी हुई है जिसका उपयोग कार्ड रीडर के माध्यम से क्रेडिट कार्ड को पढ़ने के लिए किया जाता है। जब कोई ग्राहक क्रेडिट कार्ड के माध्यम से उत्पाद खरीदता है, तो क्रेडिट कार्ड को जारी करने वाला बैंक ग्राहक की ओर से भुगतान करता है और ग्राहक के पास एक निश्चित समय अवधि होती है जिसके बाद वह क्रेडिट कार्ड बिल का भुगतान कर सकता है। यह आमतौर पर क्रेडिट कार्ड मासिक भुगतान चक्र है। क्रेडिट कार्ड प्रणाली में निम्नलिखित पार्टनर सम्मिलित होते हैं कार्ड धारक ग्राहक व्यापारी- उत्पाद का विक्रेता जो क्रेडिट कार्ड से भुगतान स्वीकार कर सकता है।  कार्ड जारीकर्ता बैंक कार्ड धारक का बैंक  प्राप्त करने वाला बैंक व्यापारी का बैंक कार्ड ब्रांड उदाहरण के लिए, वीजा या मास्टरकार्ड।  डेबिट कार्ड (Debit Card) डेबिट कार्ड, क्रेडिट कार्ड की तरह एक छोटा प्लास्टिक कार्ड होता है जिसमें बैंक खाता संख्या के साथ एक यूनिक संख्या होती है। बैंक से डेबिट कार्ड प्राप्त करने से पहले बैंक खाता होना आवश्यक है। डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड के बीच मुख्य अंतर यह है कि डेबिट कार्ड के माध्यम से भुगतान के मामले में, राशि तुरंत कार्ड के बैंक खाते से काट ली जाती है और लेनदेन पूरा होने के लिए बैंक खाते में पर्याप्त शेष राशि होनी चाहिए; क्रेडिट कार्ड लेनदेन के मामले में ऐसी कोई बाध्यता नहीं है। डेबिट कार्ड से ग्राहक कैश और चेक साथ लेकर चलने से मुक्त हो जाता है। यहां तक कि व्यापारी भी आसानी से डेबिट कार्ड स्वीकार करते हैं। डेबिट कार्ड का उपयोग करके एक दिन में निकाली जा सकने वाली राशि पर प्रतिबंध होने से ग्राहक को अपने खर्च पर नियन्त्रण रखने में मदद मिलती है।  स्मार्ट कार्ड (Smart Card) स्मार्ट कार्ड भी क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड के समान ही दिखता है, लेकिन इसमें एक छोटी माइक्रोप्रोसेसर चिप लगी होती है। इसमें ग्राहक के काम से सम्बन्धित और/या व्यक्तिगत जानकारी संग्रहीत करने की क्षमता है। स्मार्ट कार्ड का उपायेग पैसे जमा करने के लिए भी किया जाता है और हर लेनदेन के बाद राशि में कटौती की जाती है। स्मार्ट कार्ड को केवल एक पिन का उपयोग करके एक्सेस किया जा सकता है जिसे हर ग्राहक को सौंपा जाता है। स्मार्ट कार्ड द्वारा लेन-देन सुरक्षित होता हैं, क्योंकि वे एन्क्रिप्टेड प्रारूप में जानकारी संग्रहीत करते हैं और कम महंगे होते हैं तेजी से प्रसंस्करण प्रदान करते हैं। मोंडेक्स और वीजा कैश कार्ड स्मार्ट कार्ड के उदाहरण हैं।  ई-मनी (E-Money) ई-मनी लेनदेन की उस स्थिति को व्यक्त करता है जहां भुगतान नेटवर्क पर किया जाता है और राशि बिना किसी मध्यस्थ की भागीदारी के एक वित्तीय निकाय से दूसरे वित्तीय निकाय में स्थानांतरित हो जाती है। ई-मनी लेनदेन तीव्र तथा सुविधाजनक हैं, और इसमें समय बचता है। क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड या स्मार्ट कार्ड के माध्यम से किए गए ऑनलाइन भुगतान ई-मनी लेनदेन के उदाहरण हैं। एक अन्य लोकप्रिय उदाहरण ई-कैश है। ई-कैश के मामले में, ग्राहक और व्यापारी दोनों को ई-कैश जारी करने वाले बैंक या कंपनी के साथ साइन अप करना पड़ता है।  इलैक्ट्रॉनिक फंड ट्रांसफर (Electronic Fund Transfer) एक बैंक खाते से दूसरे बैंक खाते में धन हस्तांतरित करने के लिए यह एक बहुत ही लोकप्रिय इलैक्ट्रॉनिक भुगतान विधि है। खाते एक ही बैंक या विभिन्न बैंकों में हो सकते हैं। एटीएम (ऑटोमेटेड टेलर मशीन) या कंप्यूटर का उपयोग करके फंड ट्रांसफर किया जा सकता है। आजकल, इंटरनेट आधारित ईएफटी (EFT) लोकप्रिय हो रही है।

ई-भुगतान प्रणाली का उपयोग करने के लाभ एवं दोष

(Pros and Cons of Using an E-Payment System) 

ई-भुगतान प्रणाली ऑनलाइन लेनदेन के लिए इलैक्ट्रॉनिक भुगतान की स्वीकृति की सुविधा के लिए बनाई गई है। ऑनलाइन खरीदारी की बढ़ती लोकप्रियता के साथ, ई-भुगतान प्रणाली ऑनलाइन उपभोक्ताओं के लिए बहुत आवश्यक हो गई है ताकि खरीदारी और बैंकिग को अधिक सुविधाजनक ” जा सके। इस प्रणाली के कई लाभ हैं

  • दुनिया भर से अधिक ग्राहकों तक पहुंचना, जिसके परिणामस्वरूप अधिक बिक्री होती है। 
  • अधिक प्रभावी और कुशल लेनदेन ऐसा इसलिए है क्योंकि लेनदेन ग्राहक के समय को बर्बाद किए बिना सेकंड (एक क्लिक के साथ) में किए जाते हैं। यह गति और सरलता के साथ लेनदेन सम्भव करता है। 
  • सुविधा : ग्राहक किसी भी समय और कहीं भी ई-कॉमर्स वेबसाइट पर आइटम के लिए भूगतान कर सकते हैं। उन्हें बस इंटरनेट से जुड़े डिवाइस की जरूरत होती है। 
  • कम लेनदेन लागत और प्रौद्योगिकी लागत में कमी। 
  • ग्राहकों के लिए व्यय नियंत्रण, क्योंकि वे हमेशा अपने वर्चुअल खाते की जांच कर सकते हैं जहाँ वे लेनदेन का पूरा ब्यौरा प्राप्त कर सकते हैं। 
  • आज वेबसाइट में भुगतान प्रक्रिया जोड़ना आसान है, इसलिए एक गैर-तकनीकी व्यक्ति भी इसे मिनटों में लागू कर सकता है और ऑनलाइन भुगतानों को प्रोसेस करना शुरू कर सकता
  • भुगतान गेटवे और भुगतान प्रदाता लेनदेन को विश्वसनीय बनाने के लिए अत्यधिक प्रभावी सुरक्षा और धोखाधड़ी विरोधी उपकरण प्रदान करते हैं। 

ई-भुगतान प्रणाली का दूसरा पक्ष भी है। ई-भुगतान तंत्र की प्रमुख कमियां निम्नलिखित हैं: ई-कॉमर्स फ्रॉड प्रति वर्ष 30% की दर से बढ़ रहा है। यदि आप सुरक्षा नियमों का पालन करते हैं, तो ऐसी समस्याएं नहीं होनी चाहिए, लेकिन जब कोई व्यापारी एक भुगतान प्रणाली चुनता है जो अत्यधिक सुरक्षित नहीं है, तो संवदेनशील डेटा चोरी का जोखिम होता है जिससे identity की चोरी हो सकती है।  गोपनीयता की कमी ज्यादातर के लिए, यह एक समस्या नहीं है, लेकिन आपकों यह याद रखना होगा कि आपका कुछ व्यक्तिगत डेटा भुगतान प्रणाली के डेटाबेस में संग्रहीत है।  इंटरनेट एक्सेस की आवश्यकता ई भुगतान व्यवस्था इंटरनेट पर आधारित है। यदि इंटनेट कनेक्शन विफल हो जाता है, तो लेन-देन को पूरा करना असंभव है।

ऑनलाइन भुगतान तंत्र का विकास

(Evolution of Online Payment Mechanism) 

जैसे-जैसे भौतिक नकदी और चेक के प्रयोग में कमी आती है, डिजिटल भुगतान वित्तीय लेनदेन का प्रमुख तरीका बन जाता है। कैपजेमिनी और बीएनपी पारिबा के एक अध्ययन के अनुसार, डिजिटल भुगतान 2020 तक 726 बिलियन लेनदेन तक पहुंचने की उम्मीद है। डिजिटल भुगतान रिटेल व्यापार को बदल रहे हैं और उपभोक्ताओं, व्यवसायों और सार्वजनिक क्षेत्र में कई लाभ ला रहे हैं। ऑनलाइन भुगतान तंत्र की विकास यात्रा में कई दशक लगे हैं और इसका श्रेय विभिन्न नवाचारों को जाता है जिससे धीरे-धीरे भौतिक नकदी का उपयोग कम हो रहा है। डिजिटल भुगतान के उदय में कुछ प्रमुख तंत्र निम्नलिखित हैं (a) इंटरनेट और वर्ल्ड वाइड वेब-इन्टरनेट के साथ ही डिजिटल भुगतान की शुरूआत हई 1989 में, जब टिम बर्नर्स-ली ने वेब पेजों और साइटों की अवधारणा का विकास किया, जिन्हें हाइपरालक (वर्ल्ड वाइड वेब) द्वारा एक साथ जोड़ा जा सकता था, तो डिजिटल भुगतान एक अधिक यथार्थवादी कार्य बन गया। (b) पहला ऑनलाइन भुगतान-1990 के दशक में ऑनलाइन भुगतान की शुरूआत हई। स्टेनफोर्ड फेडरल क्रेडिट यनियन 1994 में ग्राहकों को ऑनलाइन बैंकिग सेवाएं प्रदान करने वाला पहला स्थान था। हालांकि ऑनलाइन भुगतान प्रणाली उपयोगकर्ता के बहुत अनूकूल नहीं थी, जिसके लिए उटा ट्रांसफर प्रोटोकॉल के विशेष ज्ञान की आवश्यकता थी। डिजिटल भुगतान में प्रारम्भ में मिलिकेंट और Nश का प्रयोग किया जाता था जो ऐसी सेवाओं की पेशकश करते थे जो माइक्रोप्रिमेंट सिस्टम और ट्रॉनिक विकल्प जैसे कि ई-मनी. टोकन या डिजिटल कैश का उपयोग करते थे। 1994 में ई-कॉमर्स अग्रणी अमेजन की स्थापना ने इन शुरूआती डिजिटल भुगतान प्रयासों को तीव्र गति प्रदान की। (c) PayPal का उभरना-ऑनलाइन भुगतान में विशेषज्ञता देने वाली शुरुआती कंपनियों में से एक Pal थी, जिसने 1999 में एक ऑनलाइन मनी ट्रांसफर सेवा के रूप में कार्य शुरू किया था। इसकी लोकप्रियता तक बढ़ी जब यह ईबे (E-bay) उपयोगकर्ताओं में लोकप्रिय हो गया। Paypal द्वारा लगा नई सुविधाओं के साथ, धोखाधड़ी को कम करने के लिए ई-मेल पते, नई मुद्राओं, मोबाइल भा एप्लिकेशन, HTML भुगतान बटन, और इसके अलावा रिवर्स ट्यूरिंग टेस्ट का उपयोग करके भो किया जा सकता है। _ PayPal को जल्दी ही स्थापित वित्तीय संस्थानों और बैंकों, साथ ही ईबे द्वारा लक्षित किया ग था, जिन्होंने कंपनी को कानूनी रूप से असुरक्षित सेवा या बैंक के रूप में वर्गीकृत करने का प्रयास किया था। ईबे ने 2002 में PayPal का अधिग्रहण किया, 2015 तक इसका मालिकाना हक रहा, जब इसे एक अलग कंपनी के रूप में पेश किया गया। (d) डिजिटल भगतान कंपनियां-ई-कॉमर्स और ऑनलाइन बैंकिंग अधिक स्थापित होने के साथ डिजिटल भुगतान में वृद्धि होने से कई डिजिटल भुगतान कंपनियां प्रमुख खिलाड़ियों के रूप में उभर रही हैं। PayPal को 2007 में यूरोपीय संघ के बैंकिंग लाइसेंस से सम्मानित किया गया था, तब तक परे योग में 35 मिलियन ग्राहक थे। 2015 में ईबे ने PayPal को एक स्वतंत्र कंपनी में बदल दिया, PayPala भुगतान समस्याओं को कम करने के लिए अपना ध्यान केंद्रित किया। _ PayPal ने अपना वर्तमान पैमाना बढ़ाते हुए हाल ही में स्वीडिश भुगतान स्टार्ट-अप आईजेटल का अधिग्रहण करने के लिए $ 2.2 बिलियन का खर्च किया, जो छोटे व्यवसायों के लिए कम लागत वाले कार्ड पेमेंट डिवाइस और पॉइंट ऑफ सेल ऐप प्रदान करता है। (e) डिजिटल वॉलेट (Digital Wallets)-डिजिटल वॉलेट कुछ समय पहले ही चलन में आए हैं लेकिन मिलेनियल पीढ़ी के साथ इन्होंने अधिक आकर्षण प्राप्त किया है। ऑनलाइन या स्मार्टाफोन पर संग्रहीत, वे बैंक खातों या भुगतान कार्ड से जुड़े होते हैं और संपर्क रहित तकनीक का उपयोग करके ऑनलाइन या भौतिक दुकानों में खरीदारी करने के लिए उपयोग किया जाता है। सितंबर 2014 में ऐप्पल पे का लॉन्च एक महत्वपूर्ण क्षण था क्योंकि इसने कार्ड की तस्वीर के माध्यम से भुगतान करने और iPhone फिंगरप्रिंट स्कैनर के माध्यम से भुगतानों को प्रमाणित करने के लिए वॉलेट कार्यक्षमता में सुधार किया। क्रेडिट कार्ड प्रदाता अब कंपनी को प्लेटफॉर्म पर प्रत्येक लेनदेन के लिए शुल्क का भुगतान करते हैं। ऑनलाइन प्रमुख अमेजन और Google भी डिजिटल वॉलेट की सुविधा प्रदान करते हैं। Google पे उपयोगकर्ताओं को पैसे भेजने और रेस्तरां बिलों को भुगतान करने में सक्षम बनाता है, जबकि अमेजन पे एक सुरक्षित सिंगल-क्लिक चेकआउट प्रक्रिया प्रदान करता है। (f) वर्चुअल बैंकिंग (Virtual Banking) डिजिटल भुगतान के विकास ने वर्चुअल बैंकों के लिए रास्ता खोला जो ग्राहकों को अपने वित्तीय लेनदेन को डिजिटल रूप से संचालित करने में मदद करते हैं। 2011 में, उदाहरण के लिए ई-भुगतान लॉन्च किया गया, छोटे व्यवसायों और व्यक्तियों को घरेलू और अंतर्राष्ट्रीय भुगतान प्राप्त करने और बनाने के लिए एक अधिक कुशल और लागत प्रभावी तरीका दिया गया। ई-भुगतान द्वारा दिए गए वर्चुअल बैंक खाते भुगतान को सरल और सुरक्षित बनाते है और कंप्यूटर या मोबाइल डिवाइस के माध्यम से खातों का प्रबंधन और वित्त के लिए एक कैशलेस दृष्टिकोण का समर्थन करते हैं। (g) क्रिप्टोकरेंसी (Cryptocurrency) यह एक विकेन्द्रीकृत मुद्रा की अवधारणा है अथात् स्वचालित और अनट्रेसेबल डिजिटल भुगतानों को करने के लिए एक प्रकार की क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करना। लेकिन वास्तव में बिटकॉइन, क्रिप्टो मुद्रा के लॉन्च के साथ 2009 में शरू हआ। कई क्रिप्टा मद्राएं ब्लॉकचेन तकनीक का उपयोग करती हैं, जिसे 2008 में बिटकॉइन के सार्वजनिक नेतृत्वकता के रूप में काम करने के लिए आविष्कार किया गया था। एक ब्लॉकचेन रिकॉर्ड या ब्लॉक की एक सूची है, जो क्रिप्टोग्राफी का उपयोग करके एक साथ जुड़े हुए हैं। प्रत्येक ब्लॉक में पिछले का एक स्कम्बल संस्करण, साथ ही एक टाइमस्टैम्प और लेनदेन डेटा भी होता है।

पेमेंट गेटवे का अर्थ

(Meaning of Payment Gateways) 

एक ऑनलाइन भुगतान गेटवे (पीजी) एक संयोग (Combination) है जो बैंक खाते को उस प्लेटफॉर्म से जोड़ता है जहां किसी को पैसे स्थानांतरित करने की आवश्यकता होती है। एक पेमेंट गेटव (PG) सॉफ्टवेयर है जो नेट बैंकिंग, क्रेडिट कार्ड, डेबिट कार्ड, UPI या इन दिनों उपलब्ध कई ऑनलाइन वॉलेट जैसे विभिन्न भुगतान मोड के माध्यम से ऑनलाइन लेदनेन करने के लिए अधिकृत करता भुगतान गेटवे एक तीसरे पक्ष की भूमिका निभाता है जो ग्राहक के पैसे को व्यापारी के भुगतान पोर्टल पर उसके बैंक खाते से सुरक्षित रूप से स्थानांतरित करता है। फ्लिपकार्ट जैसे लोकप्रिय डिजिटल प्लेटफॉर्म से किताब खरीदते समय, ग्राहकों को किताब के लिए भुगतान करने के समय, एक भुगतान गेटवे ग्राहक को फ्लिपकार्ट के लिए धन हस्तांतरित करने की प्रक्रिया में मदद करता है। इस प्रकार:

  • भुगतान गेटवे उपभोक्ता के लिये इंटरफेस है जिनका उपयोग भुगतान एकत्र करने के लिए किया जाता है। 
  • भौतिक दुकानों में, भुगतान द्वार बिक्री के बिंदु (पीओएस) युक्त होते हैं, जिनका उपयोग कार्ड या फोन द्वारा भुगतान स्वीकार करने के लिए किया जाता है। 
  • ऑनलाइन स्टोर में, पेमेंट गेटवे चेकआउट पोर्टल्स हैं जिनका उपयोग क्रेडिट कार्ड की जानकारी या पेपैल जैसी सेवाओं के लिए क्रेडेंशियल दर्ज करने के लिए किया जाता है।

पेमेंट गेटवे का उपयोग करने के लाभ

(Benefits of Using a Payment Gateway) 

पेमेंट गेटवे का उपयोग सिर्फ पैसे ट्रांसफर करने के लिए नहीं किया जाता है, बल्कि इसके अन्य लाभ भी हैं। इसके अन्य लाभ निम्नलिखित हैं- (a) पीसीआई-डीएसएस वॉलेट (PCI-DSS Wallet) डेटा सुरक्षा मानक (पीसीआईडीएसएस) उपयोगकर्ता को पोर्टल में अपने व्यक्तिगत डेटा को स्टोर करने के लिए पर्याप्त सुरक्षित बनाता है। उदाहरण के लिए, यदि कोई स्विगी पर ग्राहक है, तो वह अपनी साइट या ऐप पर अपने बैंक या कार्ड के विवरण को सेव कर सकता है, और प्रवेश द्वार इसे किसी भी साइबर सुरक्षा खतरे से सुरक्षित रखेगा। (b) व्हाइट-लेबल वॉलेट (White Lable Wallet)-कुछ भुगतान गेटवे मोबाइल वॉलेट ऐप के माध्यम से डिजिटल लेनदेन करने की अनुमति देते हैं। यह उपयोगकर्ता को केवल एक स्थान पर बैठकर अपने सभी लेनदेन करने में सक्षम बनाता है। कोई व्यक्ति अपने खाते में शेष राशि मोबाइल वॉलेट ऐप में ला सकता है और फिर अन्य ऐप या वेबसाइटों पर भुगतान करने के लिए इसका उपयोग कर सकता है। (c) धोखाधड़ी स्क्रीनिंग टूल (Fraud Screening Tool)-कई पेंमेंट गेटवे जानकारी खोने के जोखिम को कम करने के लिए धोखाधड़ी स्क्रीनिंग टूल की सेवा प्रदान करते हैं। इन उपकरणों में कार्ड कोड मूल्य (CCV), कार्ड सत्यापन मूल्य (CVV) या यहां तक कि पता सत्यापन सेवा (AVS) शामिल हैं। ये उपकरण सनिश्चित करते हैं कि लेनदेन में कोई धोखाधड़ी न हो। पेमेंट गेटवे एक ग्राहक और व्यापारी के बीच सुरक्षित मार्ग बनाने पर ध्यान केंद्रित करता है ताकि भुगतान सुरक्षित रूप से हो सके। इसमें शामिल बैकों से दोनों पक्षों का प्रमाणीकरण शामिल है। पेमेंट गेटवे का सबसे महत्वपूर्ण लाभ यह है कि यह लाखों उपयोगकर्ताओं का एक ही समय में इसका उपयोग करने की अनुमति देता है, जिससे किसी को भी सामान और सेवाओं की खरीद या बिक्री करना सम्भव हो जाता है।


Follow Me

Facebook

B.Com 1st 2nd 3rd Year Notes Books English To Hindi Download Free PDF

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*