E-Commerce – Visitors To Website & Digital Marketing Metrics Notes

E-Commerce Visitors To Website & Digital Marketing Metrics Notes :- E-Commerce Study Material Question Answer Examination Paper Sample Model Practice Notes PDF MCQ (Multiple Choice Questions) available in our site. parultech.com. Topic Wise Chapter wise Notes available. If you agree with us, if You like the notes given by us, then please share it to all your Friends. If you are Confused after Visiting our Site Then Contact us So that We Can Understand You better.



वेबसाइट पर विजिटर्स

(Visitors to Website) 

ई-कॉमर्स प्लेटकफॉर्म का सबसे महत्वपूर्ण तत्व उन विजिटर्स की संख्या है जो वेबसाइट को Visit) करते हैं। लेकिन विजिटर्स की संख्या पर एक अस्पष्टता बनी रहती है क्योंकि विजिटर्स कार के हो सकते हैं अर्थात् वह जो केवल क्लिक करता है या वह जो केवल उत्पादों की सूची देखता है और कोई खरीदारी नहीं करता है या जो अन्तिम खरीद करता है।  तकनीकी रूप से, विजिट एक मीट्रिक है जो किसी उपयोगकर्ता द्वारा किसी वेबसाइट पर नेविगेट की कल संख्या को मापने के लिए उपयोग की जाती है। विजिट एक महत्वपूर्ण डिजिटल मार्केटिंग मीट्रिक को ऑनलाइन स्टोर के प्रदर्शन को नापने के लिए रूपांतरण दर के साथ मिलकर प्रयोग की जाती है।

विजिट की माप और व्याख्या कैसे करें

(How to Interpret and Measure Visits) 

विजिट ई-कॉमर्स स्टोर की उपयोगकर्ताओं को आकर्षित करने की क्षमता का एक महत्वपूर्ण माप है। लेकिन किसी भी वेब मीट्रिक की तरह, इसे शून्य में नहीं देखा जा सकता है। विजिट कई बाह्य कारकों और आंतरिक विपणन रणनीतियों पर निर्भर होती है। इस सम्बन्ध में कुछ महत्वपूर्ण विचार निम्नलिखित हैं: (a) विजिट कहाँ से आ रही हैं? (Where are Visits Coming From) ट्रैफिक को विभाजित करके, यह पता लगाया जा सकता है कि कौन से चैनल विजिट को बढ़ाने में सबसे अच्छा काम करते हैं और कहाँ पर सुधार के लिए गुजाइश है। (b) क्या ट्रैफिक परिवर्तित हो रहा है (Is Traffic Converting) विजिट का तब तक कोई फायदा नहीं है जब तक वे बिक्री उत्पन्न नहीं करते हैं। एक बार ट्रैफिक सेगमेंट हो जाने के बाद, विभिन्न चैनलों में रूपांतरण प्रदर्शन के आधार पर जानकारी प्राप्त की जा सकती है। (c) ट्रैफिक को घटाने में अन्य कारकों का क्या योगदान है?—विजिटस (Visits) की व्याख्या करते समय प्राकतिक टैफिक. प्रवाह और सर्च ट्रैफिक, जिसे सीजनैलिटी के रूप में जाना जाता है, एक महत्वपूर्ण विचार है। उदाहरण के लिए, साइबर सोमवार के आसपास विजिटस में नाटकीय रूप से अत्यधिक वृद्धि और बैंक्सगिविंग पर काफी गिरावट हो जाती है। ऑफलाइन विज्ञापन और तीसरे पक्ष के उल्लेख भी विजिटस को प्रभावित करते हैं। शार्क टैंक पर दिखाए जाने वाले ऑनलाइन व्यवसायों को अल्पकालिक ट्रैफिक को बढ़ावा देने के लिए जाना जाता है। डिजिटल मार्केटिंग मेट्रिक्स (Digital Marketing Metrics)  डिजिटल मार्केटिंग सफलता को मापने के लिये अनेक डिजिटल मार्केटिंग मीट्रिक हैं। ये सभी जटल मार्केटिंग केपीआई विशेष व्यावसायिक लक्ष्यों के लिए प्रासंगिक नहीं हो सकते हैं, लेकिन यह र प्रत्याय (ROI) के लिए एक प्रारभिक बिदु है।

वेबसाइट के लिए डिजिटल मार्केटिंग मेट्रिक्स

(Digital Marketing Metrics For Website) 

व्यवसाय के विकास के मूल्यांकन के लिए विभिन्न वेबसाइट ट्रैफिक मीट्रिक हैं जो ट्रैफिक मीट्रिक डिजिटल मार्केटिंग की सफलता के लिए महत्वपूर्ण हैं। इस प्रकार के डेटा को ट्रैक करने के लिए अब मैटिका (Google Analytics) या इसी तरह के टूल का उपयोग करती हैं। प्रमुख डिजिटल मार्केटिंग मट्रिक्स इस प्रकार हैं: (1) ओवरऑल वेबसाइट ट्रैफिक (Overall Website Traffic) अधिकांश कंपनियाँ अपनी स्ट की सफलता का निर्धारण करने के लिए समग्र वेबसाटर रैफिक को मापती हैं। वेबसाइट होम बेस और ब्रांड के चेहरे के रूप में कार्य करती है। इसलिए, डिजिटल मार्केटिंग प्रयासों में सभी फर्म वेबसाइट पर डाइविंग टैफिक पर ध्यान केंद्रित करेंगे। व्यक्तिगत अभियान सूची बनाने या सोशल मी” पहुंच बढ़ाने पर ध्यान केंद्रित कर सकते हैं, लेकिन उस गतिविधि का अंतिम लक्ष्य समय के साथ की वेबसाइट पर अधिक ट्रैफिक भेजना है। इस प्रकार, समग्र वेबसाइट ट्रैफिक मीट्रिक को नियमित से मापना कई अंतर्दृष्टि प्रदान करता है जैसे कि कौन से अभियान काम कर रहे हैं और कब। (ii) ट्रैफिक बाय सोर्स (Traffic By Source) यह उपयोगी वेबसाइट ट्रैफिक मेट्रिक शेड ठीक उसी जगह पर प्रकाश डालता है जहाँ से वेबसाइट विजिटर्स आ रहे हैं। ‘ट्रैफिक बाय सोर्स’मीटि ई-कॉमर्स कंपनियों को यह देखने के लिए और यह निर्धारित करने के लिए उपयोग कर सकती है कि कौन से स्रोत लाभदायक हैं, और किन पर थोड़ा और ध्यान देने की आवश्यकता है। Google Analytics द्वारा ट्रैक किए गए वेबसाइट ट्रैफिक स्रोत Google Analytics द्वारा ट्रैक किए गए चार मुख्य वेबसाइट ट्रैफिक स्रोत इस प्रकार हैं: (a) ऑर्गेनिक सर्च (Organic Search)—यह उपयोगकर्ता सर्च इंजन परिणाम पर एक लिंक पर क्लिक करते हैं जो उन्हें वेबसाइट पर लाता है। (b) प्रत्यक्ष आगंतुक (Direct Visitors)—यह उपयोगकर्ता URL को सीधे सर्च बार में टाइप करते हैं अथवा बुकमार्क के द्वारा विजिट करते हैं। (c) रेफरल (Referrals)—इन उपयोगकर्ताओं को वेबसाइट पर तब भेजा जाता है जब वें किसी किसी अन्य वेबसाइट के लिंक पर क्लिक करते हैं। (d) सोशल (Social)—ये यूजर्स सोशल मीडिया प्रोफाइल या कंटेट पोस्ट सर्च करने के बाद वेबसाइट पर आते हैं। (iii) नए विजिटर बनाम् रिटर्निंग विजिटर (New Visitors Vs. Returning Visitors)-इस मीट्रिक का लाभ यह है कि यह फर्मों को यह निर्धारित करने में मदद करता है कि उनकी वेबसाइट की सामग्री समय के साथ कितनी प्रासंगिक है। अधिक विजिट यह संकेत देती है कि फर्म जो जानकारी प्रदान कर रही है कि वह इतनी मूल्यवान है, कि वे विजिट पर वापस आते रहते हैं। फर्म एक नियमित आधार पर नई सामग्री जारी करता है (सोचें : ब्लॉग), फर्म अपने नए बनाम् रिटर्निंग विजिटर मार्केटिंग मेट्रिक की समीक्षा यह देखने के लिए कर सकती है कि कोई भी दिया गया कंटेंट कैसा प्रदर्शन कर रहा है। सरल शब्दों में, यदि फर्म वेबसाइट पर अधिक जैविक ट्रैफिक लाना चाहती है, तो न्यू विजिटर बहुत महत्वपूर्ण होते हैं। यदि फर्म यह मापना चाहती है कि कितने लोग ब्राउज करने और जानकारी लेने के लिए वापस आते हैं, तो लौटने वाले विजिटर वेबसाइट ट्रैफिक मीट्रिक को ध्यान में रखना महत्वपूर्ण है। (iv) सेशन (Session) सेशन फर्म की वेबसाइट पर आने वाली विजिट की संख्या को व्यक्त करता है। Google इसे विशेष रूप से 30 मिनट की वृद्धि में गिनता है, जिसका अर्थ है कि यह वेबसाइट ट्रैफिक मीट्रिक प्रत्येक व्यक्तिगत उपयोगकर्ता के लिए हर आधे घंटे में केवल एक बार चालू होती है। उदाहरण के लिए अमेजन में उपयोगकर्ता खरीदारी करने के लिए सुबह में एक सेशन शुरू करते हैं आर फिर दिन में बाद में अपनी कार्ट (Cart) में कुछ नया जोड़ने के लिये दुबारा विजिट कर सकते हैं। उनमें से प्रत्येक को यूनिक सेशन माना जाता है। (v) औसत सेशन अवधि (Average Session Duration) औसत सत्र अवधि इस बात का सचक है कि विजिटर पूरी तरह से वेबसाइट पर कितना समय बिताते हैं। यह ई-कॉमर्स फर्म का ५९ समझने में मदद करता है कि उसकी वेबसाइट उपयोगकर्ता के अनभव (UX) के दष्टिकोण से का प्रदर्शन करती है। (vi) पृष्ठ दृश्य (Page Views) यह देखे गए पृष्ठों की कुल संख्या है। एक उपयोगकता बार-बार एक ही पृष्ठ पर जाता है वह इस मार्केटिंग मीट्रिक को ट्रिगर करेगा, इसलिए डिजिटल माका सफलता के लिए सभी पेज-संबंधित मापों में से इसका क्षेत्र सबसे बड़ा है। यह जानना प्रासंगिक किसी निश्चित समय अवधि में वेबसाइट पर कितने पृष्ठ देखे जाते है। इससे यह समझने में मदद मिल है कि क्या पूरी वेबसाइट महत्वपूर्ण है या केवल कुछ विशेष पृष्ठ ही मूल्यवान हैं। (vii) सबसे अधिक देखे जाने वाले पृष्ठ (Most Visited Pages) यह निर्धारित करने के र कि वेबसाइट के कौन से क्षेत्र सबसे अधिक मूल्यवान हैं, फर्म को इस मीटिक को देखना होगा। फर्म र Google Analytics के ‘व्यवहार’ अनुभाग में पा सकता है। अधिकांश विजिट किए गए पृष्ठ मीट्रिक यह जानकारी प्रदान करते हैं कि वेबसाइट के विजिटर कहाँ और कितने समय के लिए जा रहे हैं। गहन विश्लेषण के लिए, फर्म व्यवहार प्रवाह की जांच कर सकती है।  (viii) एग्जिट रेट (Exit Rate)-एग्जिट रेट एक मार्केटिंग मेटिक है जो बहत विशिष्ट है और साइट डिजाइन और उपयोगकर्ता अनुभव के बारे में काफी कछ बताता है। यदि फर्म का उद्देश्य पयोगकर्ताओं को अधिक सामान्य ‘अधिक जानें ब्रांडिंग के प्रयास के लिए वेबसाइट पर ड्राइव करने के लिए है, तो एक्जिट रेट मीट्रिक ठीक वही दिखाएगा जहां आगंतुक वेबसाइट की सामग्री की मिश्रा करने के बाद छोड़ देते हैं। बाउंस दर के विपरीत जो किसी को केवल एक पृष्ठ को देखने पर ट्रिगर करता है एग्जिट रेट बताता है कि उपयोगकर्ता की कछ समय बिताने के बाद रुचि खत्म हो गई है। (ix) बाउंस रेट (Bounce Rate)-एक्जिट रेट से अलग, बाउंस रेट मीट्रिक केवल एक पृष्ठ को देखने के बाद फर्म की वेबसाइट से छोड़ने (उछाल) वाले लोगों का प्रतिशत है। (x) रूपांतरण दर (Conversion Rate)-Googel Analytics फर्म की साइट पर किए गए सतरणों की संख्या को मापने में मदद कर सकता है। हालांकि, अभियान के आधार पर रूपांतरण का अर्थ अलग-अलग हो सकता है।

अन्य सम्बन्धित अवधारणाएँ

(Other Related Concepts)

(i) भुगतान प्रति क्लिक विज्ञापन (Pay Per Click Advertising/PPC) भुगतान सर्च (Paid Search/PPC (जिसे Google ऐडवर्डस कहता है) ट्रैफिक उत्पन्न करने का एकमात्र ठोस और सम्भावित तरीका है। एक प्रतिबद्ध ग्राहक डेटाबेस के लिए ई-मेल प्रसारण के अलावा, पीपीसी शब्दिक रूप से. क्लिक भुगतान के आधार पर काम करता है। एक अभियान पर एक क्लिक की औसत लागत काफी कम हो सकती है और औसत रिटेल बिक्री रिटर्न पीपीसी पर कुल खर्च के 6 से 8 गुना के बीच आता है। (ii) ई-मेल मार्केटिंग (E-Mail Marketing)—प्रत्यक्ष विपणन का सबसे शक्तिशाली और किफायती यन्त्र ईमेल मार्केटिंग है। फर्म को जल्द से जल्द ईमेल डेटाबेस का निर्माण करना चाहिए, क्योंकि यह सबसे कम लागत पर प्रभावी विपणन गतिविधि है। (iii) सर्च इंजन ऑप्टिमाइजेशन/एसईओ (Search Engine Optimization/SEO) एसईओ को अक्सर वेबसाइट ट्रैफिक की पवित्र ग्रेल (Grail) और सफलता के अंतिम निर्धारक के रूप में देखा जाता है। (iv) एफिलिएट मार्केटिंग (Affiliate Marketing)—एफिलिएट थर्ड पार्टी वेबसाइट हैं जो ट्रैफिक को कैप्चर करती हैं और इसे छोटे कट के लिए फर्म को भेजती हैं। वे पीपीसी, एसईओ और अन्य तरीकों का उपयोग करके इंटरनेट ट्रैफिक प्राप्त करते हैं। इन आगंतुकों को “टैग’ किया जाता है और वेबसाइट पर भेजा जाता है। यदि कोई बिक्री की जाती है, तो फर्म संबद्ध वेबसाइट को पूर्व-सहमत% (आमतौर पर 10%) या समान) राशि का भुगतान करेगी। (v) सोशल मीडिया (Social Media)—फेसबुक, टुविट्र, यूट्यूब सोशल मीडिया के प्रमुख साधन हैं। वास्तव में उनके पास बिक्री पर एक छोटा प्रतिशत इन नए चैनलों से आता है यद्यपि फर्म उन पर एक आनुपातिक समय (और यहां तक कि कम पैसे) खर्च करते हैं।


Follow Me

Facebook

B.Com 1st 2nd 3rd Year Notes Books English To Hindi Download Free PDF

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*