B.Com 2nd Year Winding Up Of Companies Short Notes

B.Com 2nd Year Winding Up Of Companies Short Notes :- Hii friends this site is a very useful for all the student. you will find B.Com 2nd Year all the Question Paper Study Material Question Answer Examination Paper Sample Model Practice Notes PDF available in our site. parultech.com. Topic Wise Chapter wise Notes available.


लघु उत्तरीय प्रश्न 

प्रश्न 1 – समापन व विघटन में क्या अन्तर है? 

What is difference between Winding up and Dissolution? 

उत्तर – कम्पनी के समापन तथा विघटन में अन्तर (Differences between Winding-up and Dissolution)

क्र.स. अन्तर का आधार समापन विघटन
1 विधि यह समापन की एक विधि है। इसका आशय कम्पनी के पूर्ण विघटन से है।
2 कम्पनी का अस्तित्व समापन की दशा में कम्पनी का अस्तित्व उस समय तक रहता हैं। जब तक कि समापन पूर्ण नहीं हो जाता है। इससे कम्पनी का अस्तित्व समाप्त हो जाता है।
3 सम्पत्तियों की वसूली व वितरण इसमें निस्तारक द्धारा सम्पत्तियों की राशि वसूल की जाती है ओर उसका निर्धारित विधि के अनुसार वितरण किया जाता है। इसमें यह सब नही किया जाता है वरन् इन सब कार्यों के हो जाने के बाद कम्पनी की समाप्ति होती है।

प्रश्न 2 – एक निजी कम्पनी में केवल दो सदस्य हैं-भाई और बहन, एक दुर्घटना में दोनों मर जाते हैं। क्या इससे कम्पनी समाप्त हो जाती है?

There are two members brother and sister in a private company, both died in an accident. Whether the company will come to end ?

उत्तर – सम्बन्धित निजी कम्पनी के दोनों सदस्यों की दुर्घटना में मृत्यु हो जाने पर कम्पनी समाप्त नहीं होगी क्योंकि कम्पनी अधिनियम, 2013 की धारा 56 के अन्तर्गत उक्त कम्पनी के अंशों पर मृत्यु होने वाले सदस्यों के कानूनी उत्तराधिकारियों का अधिकार/स्वामित्व हो जाएगा अर्थात् कानूनी उत्तराधिकारियों को उक्त कम्पनी के अंशों का हस्तांकन (Transmission of Shares) हो जाएगा। अंशों के हस्तांकन हेतु न तो किसी हस्तान्तरण प्रपत्र की आवश्यकता होती है और न ही किसी प्रतिफल की आवश्यकता होती है।

Follow Me

Facebook

B.Com 1st 2nd 3rd Year Notes Books English To Hindi Download Free PDF

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*