B.Com 3rd Year Final Accounts Of Joint Stock Companies – Corporate Accounting MCQ

B.Com 3rd Year Final Accounts Of Joint Stock Companies – Corporate Accounting MCQ :- all the Question Corporate Accounting Study Material Question Answer Examination Paper Sample Model Practice Notes PDF MCQ (Multiple Choice Questions) available in our site. parultech.com. Topic Wise Chapter wise Notes available. If you agree with us, if You like the notes given by us, then please share it to all your Friends. If you are Confused after Visiting our Site Then Contact us So that We Can Understand You better.

बहुविकल्पीय प्रश्न

(Multiple Choice Questions) 

  1. कम्पनी के अन्तिम खातों में सम्मिलित हैं
(अ) चिट्ठा  (ब) लाभ-हानि विवरण-पत्र  (स) चिट्ठा और लाभ-हानि विवरण-पत्र (द) चिट्ठा, लाभ-हानि विवरण-पत्र और कोष प्रवाह विवरण 
  1. भारतीय कम्पनी अधिनियम के किस भाग में कम्पनी के आर्थिक चिट्ठे का प्रारूप दिया गया 
(अ) धारा 228 (ब) धारा 229  (स) अनुसूची IV  (द) 1 अनुसूची 111
  1. कम्पनी अधिनियम 2013 की संशोधित (नई) अनसची III……से या बाद में प्रारम्भ होने वाले वित्तीय वर्ष के लिये लागू होती है
(अ) 1 अप्रैल 2011 (ब) 1 अप्रैल 2012 (स) 1 अप्रैल 2013 (द) 1 अप्रेल 2014
  1. नई अनुसूची III निर्धारित चिट्ठे का प्रारूप है –
(अ) क्षैतिज (Horizontal) (ब) लम्बवत् (Vertical) (स) (स) और (ब) दोनों (द) कोई नहीं
  1. नई अनुसची III में निर्धारित लाभ-हानि विवरण-पत्र का प्रारूप है –
(अ) लम्बवत् (ब) क्षैतिज (स) (अ) और (ब) दोनों (द) कोई नहीं 
  1. नई अनुसूची के भाग I के अनुसार चिठे के ‘सम्पत्तियों’ भाग में केवल …… प्रमुख शीर्षक हैं। 
(अ) 2 (ब) 3.  (स) A (द) 5 
  1. निम्नलिखित में से कौन-सा कथन सत्य है-
(अ) लेखांकन मानदण्ड अनुसूची III के प्रावधानों के ऊपर है  (ब) अनुसूची III के प्रावधान लेखांकन मानदण्ड के ऊपर हैं  (स) अनुसूची III के प्रावधान कम्पनी अधिनियम 2013 के ऊपर हैं (द) उपर्युक्त में से कोई नहीं 
  1. निम्नलिखित में से कौन-सा गैर-चालू दायित्व है? 
(अ) बन्धक ऋण (ब) बैंक अधिविकर्ष  (स) अदत्त मजदूरी (द) इनमें से कोई नहीं 
  1. अयाचित लाभांश है-
(अ) आयोजन (ब) चालू दायित्व  (स) चालू सम्पत्ति (द) संदिग्ध दायित्व 
  1. पेटेन्ट है-
(अ) अमूर्त सम्पत्ति (ब) कृत्रिम सम्पत्ति  (स) वास्तविक सम्पत्ति (द) चालू सम्पत्ति 
  1. ख्याति है-
(अ) वास्तविक सम्पत्ति (ब) कृत्रिम सम्पत्ति  (स) मूर्त (दृश्य) सम्पत्ति (द) अमूर्त (अदृश्य) सम्पत्ति 
  1. निम्नलिखित में से कौन गैर-चालू दायित्व नहीं है-
(अ) ऋणपत्र (ब) दीर्घकालीन ऋण  (स) बैंक अधिविकर्ष (द) आस्थगित भुगतान दायित्व 
  1. नवीन अनुसूची III के अनुसार, प्रस्तावित लाभांश को दर्शाया जाता है-
(अ) लाभ-हानि विवरण-पत्र में एक व्यय की तरह  (ब) चिट्ठे में अल्पकालीन आयोजन की तरह  (स) चिट्ठे में संचय और आधिक्य से एक कटौती की तरह (द) खातों के लिए नोट के अन्तर्गत आकस्मिक (सम्भाव्य) दायित्व के रूप में 
  1. निम्नलिखित में से कौन अमूर्त सम्पत्ति का उदाहरण नहीं हैं-
(अ) ख्याति (ब) छोटे-छोटे औजार  (स) कम्प्यूटर साफ्टवेयर (द) कॉपीराइट 
  1. निम्नलिखित में से कौन रोकड़ तुल्यों में सम्मिलित नहीं हैं-
(अ) हस्तस्थ चैक और ड्राफ्ट (ब) बैंक जमायें  (स) हस्तस्थ रोकड़ (द) प्राप्य बिल 
  1. दो वार्षिक सामान्य सभाओं के बीच घोषित लाभांश कहलाता है-
(अ) अन्तिम लाभांश (ब) अन्तरिम लाभांश  (स) प्रस्तावित लाभांश (द) उपरोक्त में से कोई नहीं 
  1. भविष्य निधि है-
(अ) आयोजन (ब) आधिक्य  (स) चालू दायित्व  (द) ऋण 
  1. कर्मचारी क्षतिपूर्ति कोष है-
(अ) आयोजन  (ब) आधिक्य (स) चालू दायित्व  (द) ऋण 
  1. बन्धक ऋण दिखाया जाता है-
(अ) चिट्टे के दायित्व पक्ष में (ब) चिट्ठे के सम्पत्ति पक्ष में  (स) लाभ-हानि विवरण में (द) खातों की टिप्पणी में
  1. सिंकिंग फण्ड है-
(अ) आयोजन (ब) आधिक्य  (स) चालू दायित्व (द) इनमें से कोई नहीं 
  1. स्थगित कर सम्पत्ति को किस शीर्षक में दिखाते हैं? 
(अ) गैर-चालू सम्पत्ति में (ब) चालू सम्पत्ति में  (स) गैर-चालू दायित्व में (द) अंश पूँजी में 
  1. स्थगित कर दायित्व को किस शीर्षक में दिखाते हैं-
(अ) गैर-चालू सम्पत्ति में (ब) चालू सम्पत्ति में  (स) गैर-चालू दायित्व में (द) अंश पूँजी में 
  1. अग्रिम कर का भुगतान दिखलाया जाता है –
(अ) लाभ-हानि विवरण-पत्र के व्यय भाग में  (ब) लाभ-हानि विवरण-पत्र के आय भाग में  (स) चिट्ठे के समता और दायित्व भाग में  (द) चिट्ठे के सम्पत्ति भाग में 
  1. निम्नलिखित में से कौन-सा आधिक्य के नियोजन का मद है-
(अ) आयकर के लिये आयोजन  (ब) हास के लिये आयोजन (स) संदिग्ध ऋणों के लिये आयोजन  (द) सिंकिंग फण्ड में अंशदान 
  1. आरक्षित ऋण पर उपार्जित और देय ब्याज …….. शीर्षक के अन्तर्गत दिखलाया जाता है। 
(अ) चालू दायित्व (ब) अरक्षित ऋण  (स) आयोजन (द) विविध व्यय 
  1. पूँजीगत अग्रिम ……… शीर्षक के अन्तर्गत दिखलाये जाते हैं।
(अ) दीर्घकालीन ऋण और अग्रिम  (ब) गैर-चालू विनियोग (स) अन्य गैर-चालू सम्पत्तियाँ  (द) अंश पूँजी 
  1. निम्नलिखित में से कौन-सी चालू सम्पत्ति नहीं है, गैर चालू सम्पत्ति है? 
(अ) स्कन्ध (ब) पूर्वदत्त किराया  (स) ख्याति (द) रोकड 
  1. निर्माण कार्य हेतु उधार ली गई राशि का ब्याज दिखाया जाता है__
(अ) लाभ-हानि विवरण में (ब) लाभ-हानि नियोजन खाते में  (स) चिट्ठे के सम्पत्ति पक्ष में (द) चिट्ठे के दायित्व पक्ष में 
  1. Security PremiumAC चिठेकेदायित्व पक्ष में किस शीर्षक के अन्तर्गत दिखाया जाता है-
(अ) संचय एवं आधिक्य (ब) अंश पूँजी  (स) सुरक्षित ऋण (द) चालू दायित्व 
  1. ‘न माँगे गए लाभांश खाते’ को चिट्ठे में दिखाया जाता है-
(अ) सुरक्षित ऋण (ब) असुरक्षित ऋण  (स) आयोजन (द) चालू दायित्व  
  1. ‘अंशों के निर्गमन पर’ बट्टे खाते को दिखाया जाता है –
(अ) चिट्ठे में सम्पत्ति पक्ष में (ब) चिट्ठे में दायित्व पक्ष में  (स) लाभ-हानि खाते में (द) लाभ-हानि नियोजन खाते में  
  1. ‘अंश-हरण खाते’ को दिखाते हैं
(अ) चिट्टे के दायित्व पक्ष में अंश पूँजी शीर्षक के अन्तर्गत  (ब) अंश पूँजी में से घटाकर  (स) चिट्ठे में सम्पत्ति पक्ष में विविध व्यय के अन्तर्गत (द) संचय में से घटाकर 
  1. ‘अभिगोपन कमीशन’ दिखाया जाता है
(अ) सम्पत्ति पक्ष में  (स) सम्पत्ति पक्ष में बिना अपलिखित व्यय के अन्तर्गत (ब) दायित्व पक्ष में  (द) दायित्व पक्ष में
  1. लाभांश चुकाया जाता है-
(अ) प्रतिभूति प्रीमियम खाते में से (ब) पूँजी शोधन संचय खाते में से  (स) समामेलन से पूर्व के लाभों में से  (द) चालू वर्ष के लाभों में से 
  1. पशुधन” ( Livestock) को चिट्ठे में दिखाया जाता है-
(अ) सुरक्षित ऋण में (ब) असुरक्षित ऋण में  (स) स्थायी सम्पत्तियों में (द)चालू सम्पत्तियों में 
  1. “संचयों में प्रस्तावित वृद्धि” है-
(अ) व्यय  (ब) आय (स) आयोजन  (द) कुछ नहीं
  1. कम्पनी द्वारा अर्जित लाभ-हानि दिखाया जाता है –
(अ) अंश पूँजी में जोड़कर (ब) संचय एवं आधिक्य में  (स) सामान्य संचय में (द) चालू दायित्व में 
  1. वैधानिक रूप से कौन-सा विवरण पत्र बनाना अनिवार्य नहीं है-
(अ) लाभ-हानि खाता (ब) कोष-प्रवाह विवरण  (स) नकद प्रवाह विवरण (द) चिट्ठा 
  1. “अंश हरण खाते” का शेष है-
(अ) पूँजीगत संचय (ब) आयगत संचय  (स) आय (द) कुछ नहीं 
  1. ड्बत ऋण के अपलेखन हेतु पृथक् रखी गई राशि कहलाती है-
(अ) विनियोग  (ब) आयोजन  (स) संचय  (द) कुछ नहीं 
  1. अंश निर्गमन व्ययों की चिट्ठे में वह राशि दिखाई जाती है-
(अ) सम्पूर्ण राशि (ब) आधी राशि  (स) जिस राशि का अपलेखन नहीं हुआ है  (द) दिखाई नहीं जाती है 
  1. कम्पनी अधिनियम 2013 की किस धारा में उल्लेख है कि चिट्ठे को अनुसूची I के अनुसार बनाना चाहिए –
(अ) धारा 129  (ब) धारा 130  (स) धारा 210 ____ (द) धारा 212 
  1. कम्पनी के अन्तिम खाते उपार्जित आधार पर बनाने चाहिए-उल्लेख है
(अ) धारा 128 में  (ब) धारा 129 में  (स) धारा 209 में  (द) धारा 210 में 
  1. कम्पनी के चिट्ठे पर हस्ताक्षर होने चाहिएँ-
(अ) चार्टर्ड एकाउण्टेण्ट के (ब) एम०बी०ए० के  (स) सरकार के प्रतिनिधि के (द) संचालक मण्डल के 
  1. कम्पनी अधिनियम, 2013 की अनुसूची III के भाग I में निर्धारित प्रारूप का अनुपालन प्रत्येक कम्पनी में किसकी सत्य एवं उचित स्थिति दर्शाने के लिए करना चाहिए-
(अ) लाभ-हानि की (ब) लाभा क समायाजन का  (स) व्यवसाय की आर्थिक स्थिति की  (द) उपर्युक्त सभी की 
  1. प्रथम कथन : प्रतिभूति प्रीमियम खाते का प्रयोग कम्पनी अधिनियम, 2013 की धारा 52 के अनुसार करना चाहिए। द्वितीय कथन : यह पूँजीगत प्राप्ति है। निम्नलिखित में से क्या उचित है-
(अ) प्रथम सही है द्वितीय सही तर्क नहीं है  (ब) दोनों सही हैं द्वितीय उचित तर्क है  (स) दोनों गलत हैं (द) प्रथम गलत है द्वितीय सही है 
  1. समामेलन से पूर्व के लाभ ले जाए जाते हैं-
(अ) सामान्य संचय में (ब) लाभ-हानि विवरण में  (स) पूँजीगत संचय खाते में (द) उपर्युक्त सभी  48.निम्नलिखित में कौन-सा लेखा लाभों के पूँजीकरण की श्रेणी में नहीं आता- (अ) बोनस अंशों का निर्गमन (ब) ऋणपत्र शोधन कोष बनाना  (स) सम्पत्ति स्थापना कोष का सृजन (द) सम्पत्तियाँ खरीदना. 
  1. कम्पनी के चिठे में पुँजी को प्रकट करने का क्रम है –
(i) निर्गमित पूँजी (ii) अधिकृत पूँजी  (iii) अभिदत्त पूँजी (iv) चुकता पूँजी कूट  (अ) (ii) (i) (iii) (iv) (ब) (iii) (ii) (i) (iv)  (स) (ii) (iv) (iii) (i) (द) (ii) (iii) (i) (iv) 
  1. सामान्य संचय है-
(अ) एक गुप्त संचय (ब) विशिष्ट संचय  (स) अविशिष्ट संचय (द) एक आयोजन 
  1. लम्बित आबंटन की दशा में प्राप्त अंश आवेदन धन की लौटाये जाने वाली राशि को चिटो दिखलाया जाता है-
(अ) अंशधारी कोषों के भाग की तरह  (ब) अन्य चालू दायित्व की तरह  (स) समता से पृथक् (द) खातों पर टिप्पणियों की तरह 
  1. कम्पनी के सामान्य परिचालन चक्र में निपटारा किये जाने की प्रत्याशा वाला मद है-
(अ) चालू सम्पत्ति (ब) गैर-चालू सम्पत्ति  (स) चालू दायित्व (द) गैर-चालू दायित्व 
  1. कम्पनी के सामान्य परिचालन चक्र में वसूल किये जाने की प्रत्याशा वाला मद ई-
(अ) चालू सम्पत्ति (ब) गैर-चालू सम्पत्ति  (स) चालू दायित्व (द) गैर-चालू दायित्व 
  1. नवीन अनुसूची III के अनुसार संचयों के हस्तान्तरण दिखलाये जाते हैं-
(अ) लाभ-हानि विवरण-पत्र में (ब) चिठे में  (स) लाभ-हानि नियोजन खाते में  (द) खातों पर टिप्पणियों में 
  1. नई अनुसूची III के भाग I के अनुसार चिठे के ‘सम्पत्तियाँ’ भाग में ‘गैर-चालू सम्पत्तियाँ शीर्षक के उप-शीर्षकों के सही क्रम का चयन करो
  2. गैर-चालू विनियोग
  3. स्थायी सम्पत्तियाँ 
  4. दीर्घकालीन ऋण और अग्रिमें 
  5. आस्थगित कर सम्पत्तियाँ (शुद्ध) 
  6. अन्य गैर-चालू सम्पत्तियाँ 
कोड – (अ) 2 1 3 4 5  (ब) 4 2 1 5 3 (स) 2 1 4 3 5 (द) 2 1 3 5 4
  1. नई अनुसूची III के अनुसार निम्नलिखित चालू सम्पत्तियों का ‘चालू सम्पत्तियाँ’ शीर्षक के उप-शीर्षकों का सही क्रम है-
  2. रोकड़ और रोकड़ तुल्य .
  3. स्कन्ध 
  4. व्यापारिक प्राप्य
  5. अल्पकालीन ऋण और अग्रिमें 
  6. चालू विनियोग कोड-
(अ) 1 2 3 4 5 (ब) 5 2 3 4 1 (स) 4 2 3 5 1 (द) 5 2 3 1 4
  1. नई अनुसूची III के अनुसार निम्नलिखित मदों के “गैर-चालू दायित्व” शीर्षक के उप-शोषको का सही क्रम है-
  2. दीर्घकालीन आयोजन
  3. आस्थगित कर दायित्व (शुद्ध) 
  4. दीर्घकालीन उधारें
  5. अन्य दीर्घकालीन दायित्व कोड-
(अ) 2 1 3 4 (ब) 3 2 1 4 (स) 3 2 4 1  (द) 2 3 4 1
  1. नई अनुसूची III के अनुसार निम्नलिखित मदों के ‘चालू दायित्वों’ शीर्षक के उप-शीर्षकों का सही क्रम है –
  2. अल्पकालीन आयोजन 
  3. अल्पकालीन उधारें 
  4. अन्य चालू दायित्व कोड
  5. व्यापारिक देयें
कोड – (अ) 1 2 3 4 (ब) 2 4 3  1 (स) 2 4 1 3 (द) 4 2 3 1
  1. नई अनुसूची III के भाग I के अनुसार, चिट्ठ के ‘समता और दायित्व’ भाग में दिखलाये गये शीर्षकों का सही क्रम है
  2. लम्बित आबंटन की अंश आवेदन धन-राशि 
  3. चालू दायित्व 
  4. गैर-चालू दायित्व
  5. अंशधारियों के कोष 
कोड – (अ) 1 2 3 4  (ब) 1 3 2 4 (स) 3 1 2 4 (द) 4 1 3 2
  1. कर आयोजन को चिट्ठे में किस शीर्षक में दिखाया जाता है –
(अ) चालू दायित्व एवं आयोजन में  (ब) संचय एवं आधिक्य में  (स) सुरक्षित ऋण में (द) विविध व्यय में 
  1. परिणाम : ‘संदिग्ध दायित्व’ चिट्ठे के योग में शामिल नहीं किया जाता है – कारण-ऐसा कम्पनी अधिनियम की अनुसूची II के भाग प्रथम में कहा गया है। निम्नलिखित में से क्या उचित है-
(अ) दोनों वाक्य सही नहीं हैं  (ब) प्रथम वाक्य सही है दूसरा गलत  (स) कारण परिणाम में कोई सम्बन्ध नहीं है, दोनों सही हैं (द) कारण परिणाम में धनात्मक सम्बन्ध है और दोनों सही हैं। 
  1. कम्पनी की अधिकृत पूँजी रू. 10 लाख, निर्गमित पूँजी रू. 8 लाख, बकाया माँग रू. 50,000,अग्रिम मॉग रू. 5,000, घोषित लाभांश 10% तो लाभांश की राशि होगी
(अ) रू.  50,000  (ब) रू. 75,000  (स) रू. 75,000  (द) रू. 1 लाख 
  1. सम्पत्ति पक्ष में ख्याति को किस शीर्षक में दर्शाया जाता है-
(अ) स्थायी सम्पत्तियाँ (ब) चालू सम्पत्तियाँ  (स) विनियोग (द) विविध सम्पत्तियाँ 
  1. बंधक ऋण दिखाया जाता है-
(अ) चिट्ठे के दायित्व पक्ष में (ब) चिट्ठे के सम्पत्ति पक्ष में  (स) लाभ-हानि खाते के डेबिट पक्ष में  (द) लाभ-हानि खाते के क्रेडिट पक्ष में 
  1. अग्रिम याचना खाते को पृथक रूप से दर्शाया जाता है –
(अ) लाभ-हानि खाते के ऋणी पक्ष में  (ब) लाभ-हानि खाते के धनी पक्ष में  (स) चिट्ठे के दायित्व पक्ष में (द) चिठे के सम्पत्ति पक्ष में 
  1. प्रस्तावित लाभांश दिखाया जाता है-
(अ) लाभ-हानि विवरण में (ब) चिट्ठे के दायित्व पक्ष में  (स) चिट्ठे के सम्पत्ति पक्ष में (द) उपर्युक्त में से कोई नहीं 
  1. निम्नलिखित में से कौन सी मद चालू दायित्व नही है – 
(अ) अदत्त लाभांश (ब) देय बिल  (स) बैंक अधिविकर्ष (द) अल्पमत अंशधारियों का हित 
  1. कर आयोजन’ को चिट्ठे में किस शीर्षक में दिखाया जाता है-
(अ) चालू दायित्व एवं आयोजन में (ब) संचय एवं आधिक्य में  (स) सुरक्षित ऋण में (द) विविध व्यय में
  1. अन्तरिम लाभांश को दिखाया जाता है-
(अ) लाभ-हानि विवरण में (ब) चिट्ठे के सम्पत्ति पक्ष में  (स) चिठे के दायित्व पक्ष में  (द) खातों की टिप्पणी के अन्तर्गत 
  1. अंश निर्गमन कटौती खाता दर्शाया जाता है-
(अ) लाभ-हानि विवरण में (ब) खातों की टिप्पणी के अन्तर्गत  (स) आर्थिक चिट्ठे के दायित्व पक्ष में  (द) आर्थिक चिठे के सम्पत्ति पक्ष में 
  1. ‘इक्विटी स्टॉक’ को चिट्ठे में दर्शाया जाता है-..
(अ) चालू सम्पत्तियों के अन्तर्गत  (ब) विविध व्ययों के अन्तर्गत  (स) अंश पूँजी के अन्तर्गत (द) असुरक्षित ऋण के अन्तर्गत 
  1. एक सीमित दायित्व वाली कम्पनी के आर्थिक चिट्ठे में सम्पत्तियाँ ……. के क्रम में दिखाई जाती है।
(अ) तरलता (ब) स्थायित्व  (स) दोनों में से कोई नहीं (द) दोनों में से किसी एक पर 
  1. ऐसा लाभांश जिस पर दावा न किया गया हो, आर्थिक चिट्टे के दायित्व पक्ष में ….. शीर्षक के अन्तर्गत दिखाया जाता है-
(अ) अंश पूँजी (ब) चालू दायित्व व प्रावधान  (स) सुरक्षित ऋण (द) असुरक्षित ऋण 
  1. कम्पनी के अन्तिम खाते …….. प्रतिवर्ष बन्द किए जाते हैं-
(अ) 31 दिसम्बर को (ब) 30 जून को  (स) 30 सितम्बर को (द) 31 मार्च को 
  1. कम्पनी का स्थिति विवरण बनाते समय……… में दिए गए प्रारूप का अनुपालन करना आवश्यक है।
(अ) संशोधित अनुसूची-III भाग-I  (ब) संशोधित अनुसूची-III भाग-II (स) संशोधित अनुसूची-III भाग-III  (द) संशोधित अनुसूची-III भाग-IV 
  1. कम्पनी के स्थिति विवरण में ‘अदत्त लाभांश’ को ……. शीर्षक में दर्शाया जाता है-
(अ) अन्य चालू दायित्व (ब) चालू दायित्व  (स) अंशधारी कोष (द) गैर-चालू दायित्व 
  1. निम्न में से किसे स्थिति विवरण में ‘अंश पूँजी’ शीर्षक के अन्तर्गत नहीं दिखलाया जाता है-
(अ) प्रार्थित पूँजी (ब) निर्गमित पूँजी  (स) अधिकृत पूँजी (द) आरक्षित पूँजी 
  1. समामेलन के पश्चात् (Post Incorporation) के लाभों को…… में हस्तान्तरित किया जाता है-
(अ) सामान्य संचय (ब) पूँजी संचय  (स) लाभ-हानि विवरण (द) व्यापारिक खाता

Follow Me

Facebook

B.Com 1st 2nd 3rd Year Notes Books English To Hindi Download Free PDF

Leave a Reply

Your email address will not be published.

*